प्रभारी से मांगा स्पष्टीकरण अलौली पीएचसी में फर्जीवाड़ा

PHC Bihar
Janmanchnews.com
Share this news...

शाहनवाज,

खगरिया जिला में न ड्यूटी रोस्टर न नियम कायदे की फिक्र. अलौली पीएचसी में आठ में एक दिन आकर अधिकारी हाजिरी बना लेते हैं. इस मामले में अलौली पीएचसी प्रभारी व भगोड़े बीएचएम से स्पष्टीकरण तलब करते हुए 24 घंटे के अंदर जवाब मांगा गया है.

बताया जाता है कि अलौली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में बिना ड्यूटी पर आये ही आठ दिनों की हाजिरी एक ही दिन बनाने के खेल का खुलासा हुआ है. पीएचसी में ड्यूटी से गायब रह कर हाजिरी बनाने का पर्दाफाश करती दो तसवीर इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. पूरा मामला सामने आने के बाद डीएम जय सिंह ने सिविल सर्जन को जांच कर ऐसे स्वास्थ्यकर्मियों पर कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है.

डीएम के कड़े रुख को देखते हुए सीएस डॉ अरुण कुमार सिंह ने पत्रांक 108 दिनांक 11.02.17 के माध्यम से अलौली पीएचसी प्रभारी डॉ संजीव कुमार व ऐसा करने वाले बीएचएम5 सह प्रखंड लेखापाल चेतन शर्मा से स्पष्टीकरण तलब कर जवाब मांगा है.

क्या है पूरा मामला :

सोशल मीडिया पर वायरल अलौली पीएचसी कर्मियों की उपस्थिति पंजी की तसवीर अलौली पीएचसी में ड्यूटी के नाम पर चल रहे गोरखधंधा की पोल खोल रहा है. सीएस ने बताया कि सोशल मीडिया पर वायरल पहली तसवीर में दिनांक दो फरवरी से 9 फरवरी तक बीएचएम सह प्रखंड लेखापाल चेतन शर्मा की हाजिरी नहीं बनी हुई है.

जबकि दूसरी तसवीर में अगले ही दिन 10 फरवरी को पिछले आठ दिनों की हाजिरी बन गयी है. जो उपस्थिति पंजी की उपयोगिता को नजरअंदाज ठेंगा दिखाने जैसा है. सीएस ने बताया कि इस पूरे प्रकरण के सामने आने से यह साबित होता है कि पीएचसी प्रभारी द्वारा उपस्थिति पंजी का प्रतिदिन अनुश्रवण (जांच) नहीं किया जा रहा है.

इस बिंदु पीएचसी प्रभारी से स्पष्टीकरण तलब करते हुए जवाब मांगा गया है. बता दें कि इससे पहले भी निरीक्षण कई बार अधिकारी से लेकर कर्मचारी के गायब रहने का खुलासा हो चुका है. कुछ दिनों में तत्कालीन सीएस द्वारा निरीक्षण में काटी गयी हाजिरी में छेड़छाड़ कर उपस्थित होने जैसे कारनामे सामने आ चुके हैं. बताया जाता है कि बीएचएम सह प्रखंड लेखापाल द्वारा आठ दिनों में एक बार अस्पताल आकर सभी दिनों की हाजिरी बनाने का खेल पहले से किया जा रहा था.

दो से दस फरवरी तक की हाजिरी एक ही दिन शुक्रवार को बीएचएम द्वारा बनाये जाने के खुलासा बाद अलौली प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी व प्रखंड लेखापाल सह बीएचएम से स्पष्टीकरण तलब किया गया है. यह काफी गंभीर मामला है. जवाब असंतोषजनक रहने पर कड़ी कार्रवाई तय है.

डॉ अरुण कुमार सिंह, सिविल सर्जन

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*