4 हेक्टैयर का ठेका, 500 एकड़ में अवैध उत्खनन करने वाले रेत माफिया को मुख्यमंत्री का संरक्षण

sand mafia
Janmanchnews.com
Share this news...
Sarvesh Tyagi
सर्वेश त्यागी

भोपाल। रेत माफिया को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा खुलेआम सरंक्षण दिया जा रहा है। यह आरोप लगते हुए नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा है कि 4 हेक्टेयर क्षेत्र में रेत उत्खनन का ठेका लेकर 500 एकड़ में अवैध उत्खनन करने वाले रेत माफिया को मुख्यमंत्री संरक्षण दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कल जब मुख्यमंत्री इंदौर में डीपीएस बस दुर्घटना में मृत बच्चों के परिजनों से मुलाकात करने गए थे, तब उनके साथ उनके विधानसभा क्षेत्र में रेत उत्खनन करने वाले डीजीयाना ग्रुप के चेयरमेन तेजेन्दर सिंह और उनके पार्टनर अमित मोदी पूरे टाइम उनके साथ थे। श्री सिंह ने कहा कि इससे पता चलता है कि सरकार की नई रेत नीति एक दिखावा है। प्रदेश की पंचायतों और जनता को एक और धोखा देने का कारनामा है। आज भी प्रदेश में रेत का उत्खनन माफियाओं के कब्जे में है। 

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री का विधानसभा क्षेत्र और उनका गृह जिला रेत माफिया के लिए स्वर्ग बन गया है। शिवा कंस्ट्रक्शन के बाद इन दिनों बुधनी विधानसभा क्षेत्र का रेत का हब नसरूल्लागंज में पिछले तीन साल से डीजीयाना ग्रुप को 4 हेक्टैयर क्षेत्र की चार खदानें उत्खनन के लिए आवंटित की गई हैं। लेकिन यह ग्रुप अनुमान है कि 500 एकड़ क्षेत्र में अवैध उत्खनन कर रहा है। माँ नर्मदा के ऐसे घाटों पर भी अवैध उत्खनन किया जा रहा है जो माईनिंग क्षेत्र भी नहीं हैं।

स्थानीय सरपंच, उप-सरपंच, जनप्रतिनिधियों ने लगातार कलेक्टर, एसडीएम, तहसीलदार को डीजीयाना ग्रुप के माइनिंग की नपती कराने और अवैध उत्खनन की शिकायतें की हैं, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई। इसी तरह बाबरी में डीजीयाना ग्रुप ने रेत स्टॉक की अनुमति ली है।

इसमें अनुमानतः 500 से 700 ट्रक तक के स्टॉक की अनुमति है लेकिन यहां पर 10 हजार ट्रक की रायल्टी ग्रुप को दी गई है। इस संबंध में स्थानीय नागरिकों द्वारा सूचना के अधिकार में मांगी गई जानकारी का अधिकारियों और प्रशासन द्वारा कोई जवाब नहीं दिया जा रहा है।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि अवैध उत्खनन और नर्मदा मां की छाती छलनी करने के मामले में पूरा बुधनी क्षेत्र बदनाम है। यह वह क्षेत्र है जहां पर फर्जी रायल्टी का मुद्रण हो रहा था, जहां कलेक्टर के फर्जी आदेश से राजसात किए गए वाहन रेत माफिया छुड़ा कर ले गया, जहां पर अवैध उत्खनन और अवैध परिवहन रोकने पर शासकीय अमले पर खुलेआम हमले किए जाते हैं। सबसे दुर्भाग्यजनक यह है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का यह गृह जिला एवं विधानसभा क्षेत्र भी है।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि नई रेत नीति बनाकर प्रदेश की जनता को गुमराह करने का यह अपराध मुख्यमंत्री ने किया है। उन्होंने कहा कि रेत माफियाओं को अपने साथ लेकर घूमने वाले मुख्यमंत्री की मंशा क्या है, यह स्पष्ट है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।