mp

उधारी पैसा मांगने पर पुलिस ने की गुडांगर्दी, युवक की कर दी पिटाई

52
ईशू केशरवानी

ईशू केशरवानी

रीवा। त्यौथर सोहागी थाना अंतर्गत सोनौरी चौकी में पदस्थ आरक्षक से उधारी पैसा मांगने पर आरक्षक राहुल कुमार ने दुकानदार युवक प्रियांशू जायसवाल की पीटाई कर दी। पीड़ित प्रियांशू जायसवाल से मिली प्राप्त जानकारी के अनुसार आरक्षक ने प्रियांशू जायसवाल जिसका दुकान सोनौरी चौराहे के पास है। आरक्षक ने पीड़ित प्रियांशू जायसवाल के दुकान से सामना खरीदा था, जो कि आरक्षक राहुल कुमार से पैसा मांगने पर आरक्षक ने दुकानदार से कहां कि मैं तुम्हारे खाते में पैसा ट्रांसफर कर दूंगा। 

जब दो दिन बीत जाने के बाद भी दुकानदार के खाते में पैसा नहीं  प्राप्त हुआ और दुकानदार को बाहर जाने के पैसों की जरूरत पड़ी तो, पीड़ित दुकानदार प्रियांशू जायसवाल ने आरक्षक से फोन पर बात कर अपना उधारी पैसा मांगने पर आरक्षक राहुल कुमार ने दुकानदार से गाली गलौच कर उसे धमकी दी कि तुम्हारे दुकान में गांजा रखवा कर तुम्हारी दुकान बंद करवा दूंगा और तुम्हारे ऊपर केश बना कर जेल भेज दूंगा जिसका रिकॉर्डिंग दुकानदार ने अपने मोबाइल पर कर लिया।

साथ ही पीड़ित अपने काम से कहीं बाहर चला गया एवं कुछ समय पश्चात आरक्षक राहुल कुमार दिनांक 15/06/2018 को दुकान पर आता है और उसका कुछ उधारी पैसा दे देता है और दुकान पर बैठे पीड़ित के भाई को सोनौरी चौकी के आस पास ना दिखाई देने को आरक्षक धमकी देता है। जिससे पीड़ित के परिवार वाले डर जाते हैं।

इतना ही नहीं दुकान पर एवं आसपास के लोगों से आरक्षक जानकारी लेता था, कि प्रियांशू जायसवाल आ गया है कि नहीं एवं पीड़ित प्रियांशू जायसवाल कुछ दिनों बाद बाहर से वापस आ जाता हैं। जिससे दिनांक 28/06/2018 को पीड़ित अपने भाई के साथ सोनौरी चौकी पर गया और आरक्षक से पूछा कि हमारे दुकान पर आकर मुझे क्यो पुछते हो जिस पर आरक्षक राहुल कुमार ने अपने वर्दी का रौब दिखाते हुए पीड़ित को चौकी के अंदर ले जाकर डंडे से पीटाई कर दी। 

साथ में मौजूद युवक के भाई ने जब इसका विरोध किया तो उसे भी डराया और धमकाया और पीड़ित प्रियांशू जायसवाल की पीटाई कर उसे छोड़ दिया। जिस समय युवक की पीटाई की गई तो अन्य पुलिस बल भी मौजूद थें।  जिससे गुस्साऐ परिजनों लोगों ने सोनौरी चौकी FIR दर्ज करने पहुचें और भ्रष्ट पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की जिसे पर सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे सोहागी थाना प्रभारी ने परिजनों को समझा-बुझा कर आरक्षक पुलिस के खिलाफ कार्यवाही का अवश्वासन देकर मामले को शांत कराया।

दिनांक 29/06/2018 को पीड़ित परिवार ने सोहागी थाने में  जाकर FIR दर्ज कराई मगर 24 घंटे बीत जाने के बावजूद अभी तक कोई कार्यवाही आरक्षक के खिलाफ नहीं हुई है। अब बड़ा सवाल यह है कि जब कानून के रखवाले ही कानून के भकष्क बन जाऐ तो जनता किस पर विश्वास करेंगी और आमजनता की सुरक्षा व्यवस्था किसके भरोसे कि जाएंगी। ऐसे भ्रष्ट पुलिसकर्मी के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।