अपने विभिन्न मांगों को लेकर आंगनबाड़ी सेविका सहायिका संघ ने निकाला विरोध मार्च

सहरसा
janmanchnews.com
Share this news...
Sarfaraz Alam
मोहम्मद सरफ़राज़ आलम

सहरसा। शहर के सुपर मार्केट से समाहरणालय तक आंगनबाड़ी सेविका सहायिका संघ के सेविका व सहायिका अपने विभिन्न मांगों को लेकर जिलाध्यक्ष गुड़िया कुमारी के नेतृत्व में विरोध मार्च निकाला। विरोध मार्च जुलूस की शक्ल में शहर के विभिन्न मार्गों का भ्रमण करते हुए समाहरणालय पहुंचकर जिला पदाधिकारी के माध्यम से प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा।

समाहरणालय मुख्य द्वार पर आंगनबाड़ी सेविका सहायिका को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष गुड़िया कुमारी ने कहा कि सरकार सेविका व सहायिका की सेवा नियमित करें। उन्होंने कहा कि सेवा नियमित होने तक राज्य सरकार केंद्र सरकार द्वारा देय मानदेय के अतिरिक्त सेविका को अठारह हजार तथा सहायिका को नो हजार का भुगतान अविलम्ब करें। उन्होंने कहा कि वर्षो से लंबित मानदेय का भुगतान किया जाय तथा ऑनलाइन मानदेय भुगतान प्रक्रिया को मजबूत करते हुए समय से मानदेय का भुगतान करें। योग्य सेविकाओं को शत प्रतिशत महिला पर्यवेक्षिका के पद पर तथा सहायिका को सेविका के पद पर नियमित नियुक्ति करे।

वही जिला मंत्री रीता देवी ने कहा कि राज्य के सभी केंद्रों का मकान भाड़ा नए दर से समय से सेविकाओं के खाते में दिया जाए। केंद्र एव राज्य सरकार के आदेश के आलोक में सेविका सहायिकाओं का बीमा कर बीमा पत्र निर्गत किया जाए। उन्होंने कहा कि मांगो को लेकर चली राज्यव्यापी लंबी हड़ताल के दौरान की गई मानदेय कटौती को वापस लेने हेतु कटौती की गई राशि का भुगतान अविलंब किया जाए। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा निर्धारित छः सूत्री कार्यक्रम के आलावे कार्य पर रोक लगाई जाए और सेविका सहायिकाओं का सेवानिवृति की सीमा समाप्त कर सेवा नियमावली बनाये जाने तक सेवानिवृति पर रोक लगाया जाए।

उन्होंने कहा कि मिनी आंगनबाड़ी को पूर्ण आंगनबाड़ी का दर्जा दिया जाए और सेविका को तत्काल पूर्ण मानदेय का भुगतान किया जाए व सेविका सहायिकाओं को पेंशन, ग्रेच्युटी लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि सेवाकाल के दौरान मृत सेविका सहायिकाओं के आश्रितों को सरकारी नौकरी की व्यवस्था हो और अशोक चौधरी द्वारा रिपोर्ट को प्राप्त कर अविलंब लागू किया जाए। विरोध मार्च में स्वाति देवी, रेणु पासवान, पूनम कुमारी, अनिता देवी, उषा रानी, प्रियंका कुमारी, मनीषा प्रिया, आशा देवी, बेचनी खातून, राखी देवी, उषा उज्जवल, जविपा के मीडिया प्रभारी दिलखुश पासवान सहित सैकड़ो की संख्या में सेविका सहायिका शामिल थी।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।