दस साल नौकरी करने के बाद हटाये गये कर्मचारियों के सामने रोटी के लाले

Sharavasti
Janmanchnews.com
Share this news...

एक मार्च से बिना किसी लिखित सूचना के कर दिया कार्यमुक्त…

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के उप मण्डल सहेट श्रावस्ती में तैनात कर्मचारियों का हाल…

Mithiliesh Pathak
मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। दस साल नौकरी करने के बाद बिना किसी लिखित सूचना के कार्यमुक्त किये गए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों के सामने रोजीरोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है। कार्यमुक्त किये गए दर्जनों दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। मगर अधिकारी हैं कि सुनने को राजी नहीं।

जानकारी के अनुसार भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के उप मण्डल सहेट श्रावस्ती में पिछले दस वर्षों से वाचन, वाच, चौकीदार एवं सफाईकर्मी के पद पर तैनात दर्जनों कर्मचारियों को एक मार्च से बिना किसी लिखित सूचना के कार्यमुक्त कर दिया गया। जिस सन्दर्भ में कर्मचारियों ने विभागीय महानिदेशक समेत कई अधिकारियों व मंत्रालयों को पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगायी है। मगर अभी तक इन्हें कहीं से भी न्याय की किरण दिखाई नहीं पड़ रही है।

इसी क्रम में शनिवार को श्रावस्ती पहुंचे संरक्षण सहायक उप मण्डल सहेट श्रावस्ती अखिलेश तिवारी से जब कर्मचारियों ने मिलकर न्याय की गुहार लगायी तो उन्होंने कार्यमुक्त कर्मचारियों को पहचानने से हीं इन्कार करते हुए कहा कि तुम लोग हमारे कर्मचारी नही हो। जबकि इन्ही के कार्यकाल में वर्षों तक उक्त कर्मचारियों ने श्रावस्ती के विभिन्न संरक्षित स्थलों पर सेवाएं दे चुके हैं।

इतना हीं नहीं इकतीस अक्टूबर 2016 को तत्कालीन संरक्षण सहायक उप मण्डल सहेट श्रावस्ती उदित नारायण तिवारी के द्वारा उक्त कर्मचारियों को बेहतर कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र भी दिया जा चुका है और 2013/14 में उक्त कर्मचारियों को एमटीएस कर्मचारियों के समकक्ष करने की सिफारिश सूची भी अधीक्षण पुरातत्वविद लखनऊ को भेजी जा चुकी है। तथा इन कर्मचारियों के पास केनरा बैंक से विभाग द्वारा प्राप्त वेतन का बैंक इस्टीमेट भी मौजूद है।

मगर संरक्षण सहायक उन्हें अपना कर्मचारी मानने को तैयार नही है। इस सन्दर्भ में जब मीडिया कर्मियों ने कर्मचारियों को हटाए जाने की हकीकत जानने का प्रयास किया तो संरक्षण सहायक ने कुछ भी बोलने से इन्कार कर दिया। संरक्षण सहायक के इस व्यवहार से आहत कर्मचारियों ने आरपार की लड़ाई का मूड बना लिया है।

इस मौके पर राज कुमार, प्रदीप कुमार, अख्तर, संतोष कुमार, भारवेंद्र कुमार, निसार अहमद, विवेक कुमार, विजय कुमार, प्रसेनजित, अरुण प्रसाद, राम गोपाल, कुबेर, सर्वेश कुमार, ओम प्रकाश, राजेश कुमार, मारुति कुमार, गोपाल तथा त्रिलोकी आदि कर्मचारी मौजूद रहे।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।