akhil bhartiye gujar mahasabha

अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा ने किया समाज सेवा हेतु प्याऊ का आयोजन

40
Omprakash Varma

ओमप्रकाश वर्मा

धौलपुर। शनिवार को अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा व गुर्जर कर्मचारी अधिकारी कल्याण परिषद के संयुक्त तत्वाधान में मचकुंड के लक्खी मेला धौलपुर में समाज सेवा हेतु प्याऊ का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन बलवंतराम लिगरी, गुर्जर सी०ओ० साहब, जिला परिषद धौलपुर के द्वारा किया गया।

यहां राजवीर सिंह गुर्जर घेड़ व अध्यापक जगदीश सिंह गुर्जर द्वारा साफा पहनाकर व अन्य पदाधिकारियों द्वारा माला पहनाकर बलवंतराम लिगरी गुर्जर सी०ओ० जिला परिषद धौलपुर का जोरदार स्वागत किया गया। सी०ओ०साहब ने कहा कि गुर्जर समाज व संगठनों के पदाधिकारियों द्वारा जो इस पावन दिन पर सामाजिक सेवार्थ कार्य किया गया है। वह बहुत ही सराहनीय है, हर जाति वर्ग को सामाजिक सेवार्थ कार्य करना चाहिए।

एड० जन्डेल सिंह गुर्जर व राजेंद्र सिंह गुर्जर ने संयुक्त संबोधन में कहा कि गुर्जर समाज के युवाओं द्वारा समय-समय पर सामाजिक कार्य किए जाते रहते हैं। जब युवाओं को हमारी आवश्यकता होती है, तब हम हमेशा उनके मार्गदर्शन हेतु तत्पर तैयार रहते हैं।

अखिल भारतीय वीर गुर्जर महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री गंगाराम गुर्जर एवं गुर्जर कर्मचारी अधिकारी कल्याण परिषद के जिला अध्यक्ष भारत सिंह गुर्जर ने संयुक्त रूप से कहा कि हमारे संगठन देश सेवा व समाज सेवा हेतु हमेशा सक्रिय रहते हैं और देश सेवा व समाज सेवा करके अात्मीय शांति व सुख का अनुभव होता है।

हमारे संगठनों के माध्यम से गुर्जर समाज के इतिहास को जन-जन तक पहुंचाना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर समाज में संदेश देना और समाज को एकजुट रखने हेतु विभिन्न कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि धौलपुर का मचकुंड मेला एक लक्खी मेला है, इसे सभी तीर्थों का भांजा कहा जाता है, यह बहुत ही पवित्र स्थल है। मचकुंड में डुबकी लगाने विभिन्न राज्यों से लोग आते हैं यहां स्नान करने से रोगों का निराकरण होता है।

इस अवसर पर एड० जन्डेल सिंह गुर्जर, अ०जगदीश सिंह गुर्जर, राजवीर सिंह घेड, डॉ० लोचन सिंह, जसवंत सिंह, रामवीरसिंह हरषाना, अरुण कुमार, राजेंद्र सिंह घुरैया, दाताराम गुर्जर, यदुवीर सिंह, नेत्रपाल, मुन्नालाल, निहाल सिंह, कालीचरण, अनिल घुरैया घेड, करवेन्द्र सिंह, देवेंद्र, अभिषेक, देवू,रामलाल गुर्जर, गिर्राज सिंह, कृष्णकांत आदि उपस्थित थे।