इलाहाबाद दलित छात्र हत्याकांड पर राजनीतिक रोटियां सेंकनें लगातार पहुँच रहे हैं सियासी बावर्ची

Vijay Shankar Singh attacking unconscious Dalit Student Dilip Saroj...
Share this news...

मुख्य आरोपी विजय शंकर सिंह की पत्नी ज्योति सिंह का भी आया बयान, बोलीं- आत्मरक्षा में गई छात्र की जान…

Yuvraj SIngh
युवराज सिंह

 

 

 

 

 

कुंडा (प्रतापगढ़): इलाहाबाद के कटरा क्षेत्र में हुई दिलीप सरोज की हत्या पर सियासत गर्म है। उसकी हत्या के पांचवें दिन लोक जन शक्ति पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ललित कुमार चौधरी व राष्ट्रीय लोकदल के जिलाध्यक्ष विजय पाल सरोज गुरुवार को हथिगवां थाना क्षेत्र के भुलसा गांव दिलीप सरोज के घर पहुंचे। उन्होंने पीड़ित रामलाल से मिलकर घटना पर चिंता जताते हुये हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

इसके बाद करीब दो बजे इलाहाबाद विश्वविद्यालय के युवा छात्र नेता अवनीश अपने चार पांच साथियों के साथ दिलीप सरोज के घर पहुंचे और घटना की बाबत परिजनों से बातचीत की। साथ ही परिजनों से आगे की रणनीति के बारे में पूछा।

सरोज
Political Parties are visiting Dalit Student Dilip Saroj home at Pratapgarh District…

इसके पहले अभी तक भुलसा गांव में प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या से लेकर सपा के राष्ट्रीय महासचिव इंद्रजीत सरोज, बसपा के प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर, पूर्व कैबिनेट मंत्री व क्षेत्रीय विधायक कुंवर रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया, बाबागंज विधायक विनोद सरोज समेत नेता संवेदना जता चुके है।

इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने पीड़ित परिवार को 24 लाख रुपये के आर्थिक सहायता का चेक व सपा ने पांच लाख रुपये व बसपा ने गुप्त रूप से आर्थिक मदद की। सुरक्षा की दृष्टि से हथिगवां थाने के दो सिपाही वहां तैनात हैं।

दीलिप सरोज की हत्या पर तमाम गरमा-गर्मी के बीच हत्या के मुख्य आरोपी उत्तर रेलवे में टीटीई सुल्तानपुर निवासी विजय शंकर सिंह की पत्नी ज्योति सिंह का बयान भी आया है, जिसमें उन्होने दिलीप तथा उसके साथियों द्वारा होटल में खाना खाने के दौरान विजय पर हमले की बात कही है। ज्योति का कहना है कि उसके पति विजय का दो घंटा जब पूजा-पाठ में जाता हो तो ऐसा व्यक्ति क्या जानबूझ कर किसी छात्र की हत्या करेगा।

विजय
Vijay Shankar Singh, main Accused of Dalit Student Dilip Saroj Murder…

ज्योति नें विजय शंकर सिंह द्वारा दीलिप पर किये गये वार को बचाव करार दिया। उन्होने कहाकि कॉलेज के छात्रों नें जरा सी बात पर रेस्टोरेंट की कुर्सियां उठाकर विजय व उसके साथियों पर वार किया, अपना बचाव करनें के दौरान दलित छात्र को सिर में चोटें आ गईं। उधर कुछ क्षत्रिय संगठनों से जुड़े लोगो नें दलित वोट बैंक को रिजर्व करनें के लिए बीजेपी द्वारा बिना जांच 24 लाख मुआवजा देने पर एतराज जताया है।

ज्योति सिंह के इस बयान की तहकीकात करने के लिए जनमंच स्पेशल पड़ताल टीम इलाहाबाद के लिए निकल चुकी है। जल्दी ही हम कुछ नये खुलासों के साथ सामने आयेगें।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।