begusarai yuva rjd protest

युवा राजद कार्यकर्ताओं का डीएम कार्यालय के बाहर 18 सूत्री मांग को लेकर एकदिवसीय धरना

26
Moinul Haque

मोईनुल हक़ नदवी

बेगूसराय। जिला युवा कार्यकर्ताओं ने आज 18 सूत्री मांगों को लेकर डीएम कार्यालय के बाहर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। धरने को कई युवा कार्यकर्ताओं ने संबोधित किया।

धरना को सम्बोधित करते हुए राजद के प्रदेश मीडिया प्रभारी डॉक्टर उर्मिला ठाकुर ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार 2014 के जो वादे किए थे, उसे पूरा करने में विफल रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार धारा 370 को खत्म नही कर पाई है। उधर बॉर्डर आये दिन जवान शहीद हो रहे हैं। लेकिन सरकार सिर्फ बहाने बनाने मे लगी है, जहां एक के बदले 10 सर लाने की बात थी, लेकिन उल्टे ही हमारे दासियों जवान हर रोज शहीद हो रहे है।

वहीं दो करोड़ रोज़गार का वादा प्रति वर्ष था लेकिन केंद्र सरकार पिछले चार सालों में 50 लाख युवाओं के लिए भी रोज़गार नही दे पाई। यानी कि सरकार लगभग सभी मोर्चे पर फेल नज़र आई है। साथ ही उन्होंने कहा कि बिहार प्रदेश में डबल इंजन सरकार पूरी तरह से विफल साबित हुई है। यही वजह है कि यहां आज कोई भी सुरक्षित नहीं महसूस कर पा रहा है।

सूबे में रोज़ हत्याकांड, अपहरण,लूटबाज़ारी आम हो चुकी है। साम्प्रदायिक हिंसाओं की तादाद बढ़ती जा रही है, आम जनजीवन अस्तव्यस्त हो चुका है, केन्द्र सरकार की गलत नीतियों की वजह से व्यवसाय तबाह व बर्बाद हो चुका है, नोटबन्दी फिर जीएसटी ने व्यपारियो की कमर तोड़ रखी।

एक दिवसीय धरना को सम्बोधित करते हुए जिला युवा महा सचिव नोमान सिद्दीकी ने कहा कि केंद्र सरकार जिन मुख्य वादों को लेकर सरकार में आयी थी कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा। काला धन विदेशों से वापस लाकर हर भारतीये के खाते में 15 लाख, धारा 370 समाप्त करना, हर साल में 2 करोड़ रोज़गार पैदा करना, लेकिन ये सारे वादे और मुद्दे सब जुमला साबित हुई। साथ ही श्री नोमान ने बोला कि अब एक नया नाटक कश्मीर में शुरू हुआ है कि जब सरकार बनाना था तो देशहित में था। तो फिर उसी गठबंधन की सरकार को गिराना भी देशहित में कैसे हो सकता है।

साथ ही उन्होंने कहा कि पिछली यूपीए सरकार के योजनाओं को रिपैकेजिंग कर केंद्र सरकार अपना ढिंढोरा पीटती रहती है। साथ ही उन्होंने कहा ही कहाँ गया बिहार सरकार को बोली लगाकर सवा सौ करोड़ का सहायता राशि, कहां गया बिहार विशेष दर्जा देने की मांग अबतक कियूं पूरी नहीं हुई है? आखिर सुशासन बाबू को क्या हो गया है? उनका जमीर अंदर से आखिर कब जागेगा? आपने तो कहा था कि करप्शन, कॉनलिस्म और कानून से कोई समझौता नहीं करेंगे फिर आपके राज में इतने देंगे कैसे हो गए। आपके राज में सृजन, व शौचलय घोटाले कैसे हो गए, कहाँ गया कानून का राज?

इस धरने में युवा राजद नेताओं ने केंद्र सरकार द्वारा 8 करोड़ लोगों को नोकरी देने, विदेशी बैंकों से कालाधन वापस लाने, बिहार को विशेष दर्जा देने, योजनाओं में लूट खसोट रोकने सहित अन्य अठारह मांगों का ज्ञापन डीएम को सौंपा।

इस अवसर पर राजेश रजक, शंकर यादव, नोमान सिद्दीकी, बैजू पासवान, हरिनंदन कुमार, शिव दत पण्डित, कैलाश यादव, सौरव कुमार, कांति सिंह, मो.इकबाल, करण कुमार, नरेश यादव आदि ने इस धरना सभा को सम्बोधित किया। अंत में प्रतिनिधि मंडल द्वारा 18 सूत्री मांगों का ज्ञापन डीएम को सौंपा गया।