देहज नहीं चाहिए, बस बहु सुंदर और सुशील होनी चाहिए: मिसेज मुख्यमंत्री

shivraj wife
Janmanchnews.com
Share this news...
Sarvesh Tyagi
सर्वेश त्यागी

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बड़े बेटे कार्तिकेय सिंह चौहान अब बड़े हो गए हैं। एक तरफ उनके राजनीति में आने के कयास लगाए जा रहे हैं, वहीं अब उनके रिश्ते की भी बात चल निकली है।

पिछले दिनों किरार धाकड़ समाज का अखिल भारतीय युवक-युवती परिचय सम्मेलन भोपाल में हुआ था। उसमें सीएम के बेटे कार्तिकेय ने भी अपना परिचय दिया और बताया कि उन्हें कैसी दुल्हन चाहिए। सभी उम्मीदवारों के साथ उन्होंने भी मंच पर खड़े होकर अपना परिचय दिया। इस दौरान कई लड़कियों के प्रपोजल भी साधना सिंह को मिले हैं।

पुणे के सिम्बायसिस में छात्र संघ के प्रेसिडेंट कार्तिकेय के राजनीति में कदम रखने की अटकलों के बीच रिश्ते की भी बात चली है। कार्तिकेय के साथ ही उनकी माता साधना सिंह भी मंच पर पहुंची और उन्होंने अपनी बहू कैसी हो इस बारे में बताया। उन्होंने बताया कि घर परिवार को साथ लेकर चले ऐसी बहू होना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वे अपने दहेज भी नहीं लेंगी। बगैर दहेज के बेटे की शादी करेंगी। उन्होंने बताया कि कार्तिकेय की भी यही इच्छा है। कार्तिकेय 22 साल के हो गए हैं। जबकि उनके पिता शिवराज सिंह का विवाह 33 साल की आयु में हुआ था।

राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं साधना सिंह सीएम चौहान की पत्नी साधना सिंह किरार धाकड़ समाज की राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं। वे पिछले माह ही राजस्थान में आयोजित समाज के सम्मेलन में राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनी गई थीं। दहेज मुक्त बनाना है समाज को साधना सिंह ने मंच से अपने संबोधन में कहा कि समाज को दहेज मुक्त समाज बनाना है। समाज में बच्चों को ऐसा संस्कार देना है कि वे दहेज से ऊपर उठकर समाज को साथ लेकर चलें।

बिजनेसमैन हैं कार्तिकेय।कार्तिकेय ने पिछले दिनों ही भोपाल के बिट्टन मार्केट में फूलों की दुकान खोली थी। जबकि वे उस दुकान को कभी नहीं संभालते हैं। -इसके बाद कार्तिकेय ने विदिशा में डेयरी का व्यवसाय शुरू किया। जहां एक बड़ी डेयरी खोली है जिसमें विदेशी गायों को रखा गया है। जिसका दूध सुधामृत नाम से बाजार में आता है। हालांकि 65 रुपए लीटर होने के कारण यह वीआईपी लोगों तक ही पहुंचता है।

कार्तिकेय को अपनी जगह देना चाहते हैं, शिवराज सिंह…

कई बार राजनीतिक सभाओं में भी कार्तिकेय को सीएम के साथ जाते हुए देखा गया है। इससे यह कयास लगाए जाते हैं कि वे भी जल्द ही राजनीति में आ सकते हैं। पिछले चुनाव में भी वे बुदनी विधानसभा में प्रचार में व्यस्त रहे। इसके बाद वे कई बार बुदनी विधानसभा में सक्रिय रहते हैं और कुछ यात्राएं भी निकलवा चुके हैं।

कई कार्यक्रमों के मौके पर कार्तिकेय को भी भाषण के लिए कहा जाता है, जिससे वे भाषण में परिवक्व हो सकें। लोग कहते हैं कि वे सीएम चाहते हैं कि वे उनके आगे चलकर राजनीतिक उत्तराधिकारी बने, इसलिए उन्हें राजनीति की ट्रैनिंग दे रहे हैं।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।