अंडी रेशम विकास योजना में महादलित महिलाओं के पैसों का हुआ बड़ा घोटाला

Scam
Janmanchnews.com
Share this news...
Moinul Haque
मोईनुल हक़ नदवी
बेगूसराय। केंद प्रायोजित अंडी रेशम विकास कार्यक्रम के तहत रेशम कीट पालन कार्य के लिए ग्रह निर्माण योजना में दो करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है। बिना निर्माण कराए ही योजना की राशि अधिकारियों की मिली भगत से निकाल ली गई। यहां तक कि प्रति लाभुक मिलने वाले एक लाख रुपए में से 30 से 40 हज़ार रुपये भी गरीब महादलित महिलाओं को नही मिल सके। स्थिति यह हुई कि किट पालन के लिए एक भी लाभुक ने कोई ग्रह निर्माण नही कराया और योजना की सारी राशि का बन्दर बांट भी हो गया।

केंद सरकार द्वारा महादलित महिलाओं के स्वरोजगार के लिए अंडी रेशम विकास कार्यक्रम के नाम पर था। एससीएस्पि 2016-2017 में दो करोड़ रुपये आवंटित हुए थे। रेशम किट पालन कार्य के लिये ग्रह निर्माण हेतु लाभुकों को एक लाख रुपए मिलने थे। जिसमें 90 हजार रुपए अनुदान था। लेकिन जब लाभुकों के खाते में दो किश्तों में 70 हजार रुपये आये तो रेशम साथी ने लाभुकों से जबरदस्ती 40 हजार से 45 हजार रुपये तक वरीय अधिकारियों को घुस देने के नाम पर वसूल लिए।

जब इसकी शिकायत डीएम राहुल कुमार से की गई। तो उन्होंने जिला उद्योग केंद के महाप्रबंधक को जांच कराए जाने का आदेश दिया। फिर उद्योग विस्तार पदाधिकारी कृष्ण प्रकाश शर्मा ने 25 मई को अपनी जांच रिपोर्ट दी। जिसमे स्पष्ट कहा गया है कि जिले में रेशम कीट पालने के लिए भवन निर्माण का कार्य नही किया गया है। 200 लाभुकों में से किसी ने भवन नही बनाया है।

जांच रिपोर्ट में  महेशवारा गांव के रेशम साथी रोशन देवी, रीना देवी, रेशम अंडी फार्म बेगूसराय के कुछ कर्मी और कुछ बिचौलियों के मिलीभगत से सरकारी राशि का बंदरबाट करने की बात उस जांच रिपोर्ट में लिखी गयी है। साथ ही ये भी कहा गया है कि इस योजना में जिला में दो करोड़ का घोटाला हुआ है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।