Srijan Scam

आय से अधिक मामले के आरोपी कर रहे हैं सृजन घोटाला की जांच

50
Pankaj Pandey

पंकज पाण्डेय

भागलपुर।” जब बिल्ली को ही दूध और दही की रखवाली करने को दे दी जाए तो अंजाम क्या होगा? आप खुद सोचिए।” कुछ ऐसा ही हो रहा है इन दिनों बिहार के चर्चित भागलपुर में हुए सृजन घोटाले की सुनवाई में।

सृजन घोटाले में सिविल सर्जन बनाम बैंक आफ बडौदा की सुनवाई की अगली तिथि 12 दिसंबर रखी गई है। शनिवार को शिक्षा विभाग बनाम पूर्व एसडीओ कुमार अनुज की भी नीलाम पत्र वाद में सुनवाई होनी थी, जिसकी तिथि भी अब 12 दिसंबर रखी गई है। इन दोनों ही मामले की सुनवाई भागलपुर के जिला आपूर्ति पदाधिकारी देवेंद्र कुमार दर्द कर रहे हैं।

देवेंद्र कुमार दर्द जो इन दोनों मामलों की सुनवाई कर रहे हैं, वे खुद आय से अधिक संपत्ति मामले के आरोपी हैं। 

पिछले 2 नवम्बर को पटना की विजिलेंस टीम ने जिला आपूर्ति पदाधिकारी के पटना व भागलपुर के ठिकाने पर एक साथ छापेमारी की थी। छापेमाारी केे दौरान आलमीरा से 66 हजार नकद, पत्नी के नाम चार जमीन के कागजात व पांच एलआईसी बांड बरामद किया गया था।

वहीं पटना में छापेमारी के दौरान डेढ़ करोड़ की जमीन के कागजात, 30 लाख के जेवरात और 20 बैंक पासबुक समेत आय से अधिक संपत्ति मिली।

विजिंलेंस थाने में दर्ज है एफआईआर

आय से अधिक संपत्ति मामले में जिला आपूर्ति पदाधिकारी के खिलाफ पटना स्थित विजिलेंस थाने में कांड संख्या 82/2017 दर्ज करने के बाद विजिलेंस कोर्ट से सर्च वारंट लिया गया था। निगरानी टीम छह महीने से जिला आपूर्ति पदाधिकारी के संपत्ति की जांच कर रही थी।

विजिलेंस के एक अधिकारी के मुताबिक जिला आपूर्ति पदाधिकारी द्वारा वर्ष 2010 से 2016 के बीच दाखिल रिटर्न फाइल में एक करोड़ से अधिक की संपत्ति का इजाफा दिखाया गया है। जबकि बढ़ी हुई संपत्ति के मुकाबले छह साल में इनकी वेतन वृद्धि काफी कम है।