रजनीकांत के जज्बे को हर कोई कर रहा सलाम, बचाया दोनों पैर गंवा देने वाली लड़की की जान

Khagariya victim
Janmanchnews.com
Share this news...

सामने आया छात्र नेता का मानवीय चेहरा…ट्रेन की चपेट में आयी युवती का भागलपुर ले जाकर कराया इलाज…रजनीकांत के जज्बे को हर कोई कर रहा सलाम!!!

खगड़िया। स्वार्थ के इस युग में लोग जहां खून के भी रिश्ते को दागदार बनाने से बाज नहीं आते वहीं छात्र नेता रजनीकांत यादव ने इंसान को इंसान मानते हुए न केवल इंसानों को इंसानियत की पाठ पढ़ाया बल्कि ट्रेन की चपेट में आकर दोनों पैर गंवाने वाली लड़की को इलाज के बावत भागलपुर भी पहुंचाया। उसमें भी तब जबकि मरनासन्न अवस्था में पड़ी लड़की का नाम ठिकाना तक लोगों को पता नहीं था।

दरअसल, मंगलवार को खगड़िया जिला मुख्यालय स्थित संसारपुर रेलवे ट्रैक पार करने के दौरान अलौली थाना क्षेत्र की एक लड़की ट्रेन की चपेट में आकर अपना दोनों पैर गंवा बैठी। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस लाइन के मेजर संतोष सिंह पुलिस मेंस एसोसिएशन अध्यक्ष गुंजन सिंह के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और दोनों पैर गंवा चुकी युवती के पैर से अनवरत निकल रहे खून पर काबू पाने के लिए कटे हुए हिस्से पर गमछा बांधकर उसे सदर अस्पताल में भर्ती कराया।

वहां मौजूद डॉ गुलसनोवर व उनके सहयोगियों ने तुरंत इलाज प्रारंभ किया। तब तक यह घटना आग की तरह खगड़िया जिले के विभिन्न हिस्से में फ़ैल चुकी थी। लगभग सभी संगठनों के सदस्य अस्पताल पहुंचने लगे। लेकिन गंभीर रुप से जख्मी लड़की की जान पहचान करना मुश्किल हो रहा था।

जब यह खबर AISF के छात्र नेता रजनीकांत को मिली तो वह न केवल खगड़िया सदर अस्पताल पहुंचे बल्कि बिना किसी स्वार्थ के लड़की की हरसंभव मदद के लिए तन्यमता से तैयार भी हो गए। तब तक भी पीड़िता की पहचान नही हो सकी थी। जब चिकित्सकों द्वारा बेहतर इलाज के बावत गंभीर रुप से जख्मी लड़की को भागलपुर रेफर किया किया गया तो रजनीकांत भी पीड़ित युवती के साथ हो लिये।

युवती के पहचान व परिवार के खोजबीन के लिए सोशल मीडिया पर विभिन सामाजिक कार्यकर्ता, स्थानीय मीडियाकर्मी व अन्य के द्वारा फोटो सहित अन्य जानकारी वायरल किया जाने लगा। रजनीकांत सहित अन्य लोगों की मेहनत रंग लाई और होश में आने के बाद पीड़ित युवती ने अपनी पहचान का खुलासा किया।

खगड़िया जिले के अलौली थाना अंतर्गत आनंदपुर परास निवासी सचितानंद यादव की पुत्री रिंकी कुमारी द्वारा पहचान बताये जाने के बाद रजनीकांत यादव की बात लड़की के परिजनों से हुई। रजनीकांत ने बताया कि युवती के परिवार वालों से बात हो गई है और वे लोग पहुँचने वाले है।

इधर जिंदगी व मौत के बीच झूल रही युवती को भागलपुर के छात्र नेता अजित कुमार में भी अपना खून देकर जान बचाने में अहंम भूमिका निभाई। बहरहाल, इस मामले को लेकर न केवल सर्वत्र चर्चा हो रही है बल्कि लोगों के मुंह से बरवस यह निकल भी जा रहा है कि इंसानियत अब भी जिंदा है अन्यथा रजनीकांत के रुप में गंभीर रुप से जख्मी युवती को रजनीकांत का साथ नहीं मिल पाता।

Content Source: www.sdfnews.com

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।