BREAKING NEWS
Search
Samastipur

अंधविश्वास के चक्कर में गई एक मासूम की जान, फिर भी चलता रहा झाड़-फूंक!

491

परिवार के लोग उसे तत्काल चिकित्सक के पास ले जाने की जगह झाड़-फूंक के लिए भगत को बुला लाए…

Santosh Raj

संतोष राज

समस्तीपुर (रोसड़ा)। चिकित्सा की जगह झाड़ फूँक के कारण आज एक दस वर्षीय बच्चे की मौत हो गई। घटना शिवाजीनगर प्रखंड के जाखर धर्मपुर पंचायत के कोल्हट्टा महिषर टोला की है।

रविवार के दिन के लगभग ग्यारह बजे गंगाराम मुखिया का दस वर्षीय पुत्र अंकित कुमार अपने कच्चे घर के कमरे से कोई सामान लेने गया कि तभी घर मे बने बिल से एक विषधर सांप निकलकर उसे डंस लिया। परिवार के लोग उसे तत्काल चिकित्सक के पास ले जाने की जगह-झाड़ फूंक के लिए भगत को बुला लाए।

Samastipur

Janmanchnews.com

भगत आकर झाड़ फूंक करने लगा। मगर तब तक जहर पूरे शरीर मे फैल गया। एक घण्टे के पश्चात बालक की असमय मौत हो गई। मौत हो जाने के बावजुद भगत झाड़ फूंक करता रहा।

Read this also…

मौत के 29 साल बाद भी खोजा जा रहा है इस शख्स का का कटा हुआ सिर…

घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर आसपास के लोगों का तांता लग गया। लेकिन किसी ने भी परिजन को अस्पताल ले जाने की सलाह नहीं दी। संध्या पांच बजे तक झाड़-फूंक का कार्य जारी रहा।

ततपश्चात हताश और निराश परिजनों ने बालक के शव को चचरी पर नाम-पता लिखकर पास बहती करेह नदी में बहा दिया। आधुनिक युग में चिकित्सा के बजाय अंधविश्वास ने आज एक बालक को असमय काल के गाल में भेज दिया।