यूपी के इन सांसदों को बे-टिकट कर सकती है भाजपा, बैठक के दौरान संघ ने लिया फैसला

जगदम्बिका पाल व कलराज मिश्र
File Photo: जगदम्बिका पाल व कलराज मिश्र
Share this news...

– गोरखपुर, देवरिया बस्ती, संतकबीरनगर और डुमरियागंज में भी बदलेगा लोकसभा का चेहरा

Priyesh Kumar "Prince"
प्रियेश कुमार “प्रिंस”

लखनऊ। राष्‍ट्रीय स्‍वयं सेवक संघ की लखनऊ में हुई बैठक में वर्ष 2019 के चुनाव को लेकर चिंता व्‍यक्‍त की गई है। सांसदों की लोकप्रियता का आकलन करने वाली टीम ने नेतृत्‍व को आगाह करा दिया है कि कम से कम चार दर्जन सांसदों को बदला नहीं गया या उनके क्षेत्रों में परिवर्तन नहीं किया गया तो भाजपा को करारी पराजय का सामना करना पड़ सकता है।

सर्वे टीम ने जानकारी दी है कि इन सांसदों से क्षेत्र की जनता बहुत नाराज है। इसमें विकास कार्य से लेकर गायब रहने तक के आरोप शामिल हैं। जनता की नाराजगी का आलम यह है कि विकल्‍प ना होने की दशा में वे या तो घर में बैठी रहेगी या फिर इन सांसदों को हराने के लिए ही बाहर निकलेगी। ऐसी स्थिति पार्टी के प्रदर्शन के लिहाज से चिंताजनक हो सकता है।

जगदम्बिका पाल
फोटो: जगदम्बिका पाल,सांसद डुमरियागंज

सर्वेयर टीम से जानकारी मिलने के बाद शीर्ष नेतृत्‍व ने ऐसे सांसदों की सूची तैयार करनी शुरू कर दी है, जिनको अगले चुनाव में टिकट से वंचित किया जा सकता है या फिर क्षेत्र बदला जा सकता है। नेतृत्‍व टिकट काटने से पहले पूरी तरह आकलन कर लेना चाहता है। इन क्षेत्रों में मजबूत प्रत्‍याशियों की तलाश भी शुरू कर दी गई है। दूसरे दलों से मजबूत प्रत्‍याशी लाने के लिए डोरे भी डाले जा रहे हैं।

विश्‍वस्‍त सूत्रों ने जो जानकारी दी है, उसमें कुछ सांसद ऐसे हैं, जिनका टिकट कटना तय माना जा रहा है। वहीं आधा दर्जन से ज्‍यादा सांसदों का क्षेत्र बदला जाएगा। इन कई सांसदों को टिकट कटने की भनक लग चुकी है, लिहाजा वह अभी से दूसरे दलों में संभावनाएं तलाश करने में जुट गए हैं। भाजपा के चार दलित सांसद अपनी ही पार्टी के खिलाफ बयान देकर इसके संकेत भी दे चुके हैं। वह बयानबाजी से नेतृत्‍व पर दबाव बनाने में जुटे हुए हैं।

जिनके टिकट कटने की संभावना है, उनमें नगीना सांसद यशवंत सिंह, आगरा राम शंकर कठेरिया, बाराबंकी प्रियंका रावत, सोनभद्र छोटेलाल खरवार, मऊ हरि नारायण राजभर, मछलीशहर राम चरित्र निषाद, फतेहपुर सिकरी बाबूलाल, हरदोई अंशुल वर्मा, मिश्रिख अंजू बाला, उन्‍नाव सच्चिदानंद हरी साक्षी, फर्रुखाबाद मुकेश राजपूत, इटावा अशोक कुमार दोहरे, हमीरपुर पुष्‍पेंद्र सिंह चंदेल, श्रावस्‍ती ददन मिश्रा, बहराइच सावित्रीबाई फुले, अंबेडकरनगर हरीओम पांडेय, डूमरियागंज जगदंबिका पाल, संत कबीरनगर शरद त्रिपाठी, बस्‍ती हरीश द्विवेदी तथा जौनपुर सासंद केपी सिंह शामिल हैं।

कलराज मिश्र, सांसद देवरिया
फोटो: कलराज मिश्र, सांसद देवरिया

इनके अलावा रामपुर सांसद नेपाल सिंह, मेरठ राजेद्र अग्रवाल, देवरिया कलराज मिश्र, कानपुर मुरली मनोहर जोशी तथा भदोही वीरेंद्र सिंह मस्‍त का टिकट अधिक उम्र के चलते कटना लगभग सुनिश्चित है। इसके अलावा उमा भारती ने भी सक्रिय चुनाव ना लड़ने का ऐलान कर दिया है। जिन सांसदों के क्षेत्र बदले जाने की संभावना है, उसमें सुल्‍तानपुर सांसद वरुण गांधी, लखीमपुर सांसद अजय मिश्र टेनी, धौरहरा रेखा वर्मा, कैसरगंज बृजभूषण शरण सिंह के नाम शामिल हैं। इनके अलावा गोरखपुर, फूलपुर और कैराना से भी नए चेहरे चुनावी समर में उतारे जाएंगे।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।