राजस्थान में पुन: सत्ता प्राप्ति के लिए भाजपा लगाएगी ऐड़ी से चोटी तक का जोर

BJP
Janmanchnews.com
Share this news...
Omprakash Varma
ओमप्रकाश वर्मा

राजस्थान (धौलपुर)। विधानसभा के आम चुनावों में अब साढ़े 1० माह का समय शेष है। पिछले 2० साल में लगातार भारतीय जनता पार्टी ने राजस्थान में लगातार दूसरी बार शासन नहीं किया है, जबकि पड़ौसी राज्य मध्यप्रदेश व गुजरात में लगातार शासन कर रही है। इसी के दृष्टिगत भाजपा ने पुन: सत्ता प्राप्ति के लिए अभी से ही खास रणनीति बनानी शुरू कर दी है।

कांग्रेस भाजपा की रणनीति को भेद पाएगी या नहीं, यह तो समय ही बताएगा पर माना जा रहा है कि कांग्रेस नहीं, कांग्रेस के मंत्री रह चुके उम्मीदवार रणनीति को भेदने में सफल नहीं हो पाएंगे। नए चेहरों को टिकट दे दिया तो वे कुछ हद तक भाजपा की रणनीति को ध्वस्त करने में कामयाब हो जाएंगे।

कहा जा रहा है कि भाजपा ने कांग्रेस शासन में मंत्री रहे कांग्रेसियों व अन्य संभावित उम्मीदवारों की जन्म कुंडली तैयार कर ली है, जिससे वे पब्लिक मीटिंगों में भाजपाई नेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर उनके चेहरों को बेनकाब नहीं कर पाएंगे। इसका सबसे बड़ा लाभ भाजपाई उम्मीदवारों को मिलेगा पर पूर्व मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की छवि का लाभ कांग्रेस को मिलेगा और भाजपाई उम्मीदवारों को बड़ा नुकसान होगा।

राज्य में चल रही कानाफूसी के मुताबिक भाजपा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्ग मोदी की छवि को भुनाएगी। इसका राज्य के मतदाताओं पर कितना असर पड़ेगा, ईवीएम मशीनों से परिणाम बाहर आने के बाद ही पता चलेगा पर सत्ता में काबिज भाजपा अधिकारियों का पूरा फायदा उठाएगी। इसके लिए उसने खास रणनीति बनाई बताई है।

इस खास रणनीति के मुताबिक राज्य के जिलों की कमान राज्य प्रशासनिक सेवा से पदोन्नत हुए अफसरों व कुछ जिलों में वरिष्ठ राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को सौंपी जाएगी। वहीं राज्य पुलिस सेवा से भारतीय पुलिस सेवा में पदोन्नत हुए अधिकारियों को जिले की कमान सौंपी जाएगी। बताया जा रहा है कि जिलों में जिला कलक्टर व जिला पुलिस अधीक्षकों के तबादले की सूची तैयार है, आंशिक संशोधन के बाद मार्च तक जारी कर दी जाएगी।

बुद्धिजीवियों का कहना है कि राज्य विधानसभा के चुनाव में भाजपा मानवीय कमजोरियों का पूरा लाभ उठाएगी। कई प्रमोटी अफसर जिला कलक्टर व जिला पुलिस अधीक्षक नहीं बने हैं और रिटायर्डमेंट का समय निकट है। ऐसे में प्रमोटी अफसर भाजपाई उम्मीदवारों के इशारे पर काम करेंगे और कांग्रेसी उम्मीदवार विरोध नहीं कर पाएंगे।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।