पकौड़े बेचकर आप करोड़पति बन कई पांच सितारा होटलों के मालिक बन सकते हो: आनंदीबेन पटेल

File Photo: Governor of Madhya Pradesh Anandiben Patel
Share this news...
Sarvesh Tyagi
सर्वेश त्यागी

छिंदवाड़ा। आनंदीबेन पटेल ने शनिवार को कहा कि पकौड़ा बनाना भी कौशल विकास का एक हुनर है। इसमें शुरू के दो साल तक भले ही कम सफलता मिले लेकिन तीसरे साल वह व्यक्ति रेस्त्रां और आगे जाकर होटल का मालिक बन सकता है। गवर्नर शनिवार को छिंदवाड़ा के हर्रई विकासखंड मुख्यालय पर गोंड महासभा के राष्ट्रीय अधिवेशन का उद्घाटन करने आई थीं। यही बात उन्होंने जीवाजी यूनिवर्सिटी में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम सेंट्रल इंस्ट्रूमेंटेशन फैसिलिटी (सीआईएफ) का लोकार्पण करते हुए कही।

सबको सरकारी नौकरी नहीं मिल सकती…

उन्होंने कहा कि सभी को सरकारी नौकरी नहीं मिल सकती। ऐसे में जरूरी है कि बेरोजगारों के कौशल विकास को प्रोत्साहन दिया जाए। अंबानी, अडानी का जिक्र कर कहा कि छोटे काम करके भी व्यवसाय के शिखर तक पहुंचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि आदिवासियों को रोजगार से जोड़ने के लिए सभी को प्रयास करना होगा। गवर्नर बसुरियाखुर्द में शहीद मेजर सुनील कहार की समाधि स्थल पहुंचीं और कलेक्टर को यहां पार्क बनाने के आदेश दिए।

ग्वालियर में क्या बाेलीं गवर्नर…

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने शनिवार को जीवाजी यूनिवर्सिटी में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम सेंट्रल इंस्ट्रूमेंटेशन फैसिलिटी (सीआईएफ) का लोकार्पण करते हुए कहा कि कोई भी काम छोटा नहीं होता है। पकौड़ा बेचना भी एक हुनर है। आज जो पकौड़ा बेच रहे हैं वो कल को खुद का होटल भी खोल सकते हैं।

साथ ही उन्होंने कहा कि इस सेंटर के शुरू होने से यूनिवर्सिटी के शोध छात्रों को अपने जांच निष्कर्षों के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। लोकार्पण के बाद राज्यपाल ने डीन की बैठक भी ली। इसमें उन्होंने जेयू में नकल पर रोक लगाने आैर छात्रों में स्किल डवलपमेंट करने के लिए गुजरात की तरह काउंसिलिंग कर नकल करने वाले छात्रोंं के माता-पिता से बात करनी की बात कही।

उन्होंंने कहा गुजरात में अब नकल पर रोक लग गई है। यूनिवर्सिटी का काम सिर्फ डिग्री बांटना नहीं बल्कि छात्रों का प्लेसमेंट भी कराना है। इसके लिए प्रोफेशनल कोर्स शुरू कर छात्रों को स्किल्ड बनाना चाहिए, जिससे उन्हें रोजगार मिले। छात्र पढ़कर लिखकर जब खुद का रोजगार शुरू करेंगे तभी देश तरक्की करेगा। खाली सरकारी नौकरी पाना ही केवल शिक्षा प्राप्त करना नहीं है। डीन की बैठक में अफसरों ने जेयू के डवलपमेंट प्लान का प्रजेंटेशन दिया। साथ ही शहीद फौजी के बच्चों  को फीस में सब्सिडी देने की बात राज्यपाल ने कही।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।