सीएम योगी का आदेश नहीं मान रहा विद्युत विभाग

electricity board
Demo pic: Electricity Board
Share this news...
आशीष चौहान की रिपोर्ट,
उन्नाव। प्रदेश में सरकार कोई भी हो मगर इन सरकारों को बाशिंदों की कितनी फ़िक्र है ये किसी से छुपा नहीं है। पूर्व की सरकार बिजली व्यवस्था को लेकर खुद को संजीदा बताने का ढिंढोरा पीटती रही तो वर्तमान की योगी सरकार भी विद्युत व्यवस्था को दुरुस्त करने के हवाई दावें कर रही है।

ग्रामीण क्षेत्रों में 20 घण्टे बिजली दिए जाने के आदेश कागजी बनकर रह गए हैं। यहीं नहीं जनपद उन्नाव की बांगरमऊ तहसील के अन्तर्गत न्यायपंचायत कठिघरा में गांव के किनारे चारों ओर तो बिजली आ रही है लेकिन बीच गांव के निवासियों को बिजली नसीब नहीं हो पा रही है।इतना ही नहीं खम्भे सोपीस बने खड़े हैं।

जहां बिजली आ रही है उसके खम्भे टेढे एवं तार काफी लूज हो जाने के कारण हादसो को दावत दे रहे हैं। जिसकी सिकायत सफीपुर पावरहाउस में किये जाने के बाद भी कोई कार्यवाही होती नजर नहीं आ रही है। इसके अलावा फतेहपुर चौरासी क्षेत्र के अंतर्गत दिन में लगभग 4 घण्टे मुश्किल बिजली आपूर्ति हो रही है।

आज जब मैने सफीपुर पावर हाउस के जेई साहब से बात की और उनसे लाइट न आने का कारण पूछा तो उन्होने आधी में खम्भे गिरने की बात बताई। जब मैंने इस पर प्रश्न किया तो उन्होंने मीटिंग में होने की बात बता एवं बाद में शेड्यूल बताने की बात बता कर फोन काट दिया। जबकि विद्युत आपूर्ति परसों ही चालू कर दी गई थी। लेकिन दिन में लगभग 4 घंटे ही सफीपुर पावर हाउस से ग्रामीण क्षेत्र फतेहपुर 84 एरिया के लोगों को मिल पा रही है। लुका छिपी का खेल खेल रही बिजली। जे ई महोदय सब जानते हुए भी अंजान बने हैं।

प्रदेश का निजाम बदला मगर लचर रवैया नहीं बदल सका। पूर्व की सपा सरकार ने यूपी की बिजली व्यवस्था को लेकर कई बार अपनी पीठ थपथपाई मगर इनकी नाकामी ने इन्हें सत्ता से ही बेदखल कर दिया। अब जबकि बीजेपी के हाथों में प्रदेश की कमान है और सरकार शहर ही नहीं गांवों को भी 20 घण्टे बिजली देने का ऐलान कर चुकी है। गांवों को भरपूर बिजली  देने के इनके सभी दावे ग्रामीण क्षेत्रों में खोखले नजर आ रहे हैं।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।