मुस्लिमपुरा

जनमंच पड़ताल: पीएम नें काशी को बनाया क्योटो, तस्वीरों में देखिए काशी की विकास गाथा

79

लोकसभा और उत्तरप्रदेश विधानसभा के चुनावी भीषणों में पीएम काशी को क्योटो बनाने के दावे कर चुके हैं…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिताकर लोकसभा भेजने वाले काशी को उम्मीद थी कि धीरे-धीरे ही सही लेकिन शायद इस प्राचीन शहर में भी विकास जैसी कुछ चीज नजर आयेगी। अपनें लंबे चौड़े भाषणों में पीएम मोदी कई बार काशी को जापान के एक छोटे से शहर क्योटो तरह बनानें की बात कर चुके हैं, उनके दावों और वादों में कहाँ तक सच्चाई है जनमंच नें इसकी पड़ताल की और जो सच्चाई उभर कर सामनें आयी यह आज हम अापको दिखाते हैं।

बनारस का विकास

How the development of Varanasi is being compared to Kyoto in Japan…

क्योटो काशी

Kyoto City’s Streets are compared to Kashi’s…

शहर उत्तरी से बीजेपी के विधायक विकास की गाथा हर क्षेत्र में गाते फिरते है। उनके अनुसार पीएम मोदी के काशी और क्योटो की फैन्टेसी को एक वो ही सच करके दिखाने में लगें हैं। सो हमनें शहर उत्तरी के क्षेत्रों का राऊंड लगाया और विकास की कहानी को देख-समझकर जनता के सामने पेश करने का फैसला किया।

काशी का विकास

Kashi: An Inside Story of Development…

Varanasi Kyoto

This is how administration of Kyoto City cares about their Roads…

वाराणसी के जैतपुरा थानाक्षेत्र के सरैंया मुस्‍लिमपुरा क्षेत्र का दौरा जब हमनें किया तो तस्वीर बद से बद्तर नजर आयी। रविद्र जायसवाल वैसे भी विकास के मामले में हमेशा से फिस्सड्डी रहे हैं, लेकिन हालात इतनें भी बुरे नही थे कि लोगों को खुले सीवर में गुजर-बसर करना पड़ रहा हो।

रविंद्र जायसवाल

A Local Shop in Varanasi…

काशी और क्योटो

A Local Market of Kyoto City…

“आम जन-मानस को शौचालयों, मूत्रालयों के गंदे पानी के बीच कॉकरोच की तरह गुजर बसर करना पड़ रहा है। क्षेत्र में जमा गंदा मल जल मलेरिया, डेंगू, जॉयन्डिस, कॉलरा, चिकनगुनिया को दावत दे रहा है। आये दिन क्षेत्र के बाशिंदे किसी न किसी बिमारी से पीड़ित हो अस्पताल पहुँचते रहते हैं। बच्चों के पेट में टेप वर्म, हुक वर्म पलकर उनको कुपोषण का शिकार बना रहें हैं, जिम्मेदार नेतागणों को कुछ तो शर्म आनी चाहिये, आखिर स्वच्छ भारत का नारा देने वाले लोग कैसे लोगों को इस तरह नरकीय हालात में छोड़ सकते है?” क्षेत्र में क्लिनिक चलाने वाले डा० गोपाल गुप्ता कहते हैं।

मोदी का संसदीय क्षेत्र

The Development Story can be seen in Varanasi…

क्योटो के कॉलेज

The Development of Kyoto City in Japan…

शहर उत्तरी से विधायक रविन्द्र जायसवाल लगातार दूसरी बार विधानसभा पहुंचे हैं। विडम्बना है कि उत्तरी विधानसभा के क्षेत्र में नाले का पानी गलियों में फैला है, गंदगी का अंबार दरवाजों पर बदबू फैला रहा है, सीवर बजबजा रहे हैं। लोग पूछ रहे हैं कि क्या जापान का क्योटो शहर इसी तरह का है?

जैतपुरा थाना क्षेत्र के सरैंया मुस्लिमापुरा क्षेत्र जहां से लगातार 15 साल से एक ही सभासद मिनी सदन में प्रतिनिधि हैं। बावजूद इन के इलाके की सूरत किसी से छिपी नहीं है।

क्षेत्र के पार्षद निर्दलीय रियाज़ुद्दीन लगातार तीन बार चुनाव जीतकर पिछले 15 सालों से मलाई काट रहें हैं। उनसे विकास की बात करो तो वो ठीकरा बीजेपी के सर फोड़ते नजर आते हैं।

पीएम मोदी के काशी को क्योटो बनानें के वादों की सच्चाई इन तस्वीरों में देखकर आपको पता चल जायेगी और यह भी कि काशी क्योटो से कितनी दूर है। फिलहाल, हमे एक उम्मीद बीजेपी की नई मेयर मृदुला जायसवाल से हैं, जिन्होनें कहा था कि मुझे ‘काशी’ को क्योटो नही ‘काशी’ ही बनाना है। चलिए, हम देखते हैं कि आप कब तक काशी को इंसानों के रहने लायक बनातीं हैं।

shabab@janmanchnews.com