कांग्रेस

बीएचयू कर रहा है ‘अयोग्य भारत’ का निर्माण– सिंहद्वार पर कांग्रेसियों नें बांटे बीजेपी-आरएसएस के खिलाफ पर्चे

36

वर्ष 2015 से 2017 तक बीएचयू में की गई अयोग्य एवं अवैध प्रोफेसरों की भर्ती…

Tabish Ahmed

ताबिश अहमद

 

 

 

 

 

वाराणसी: बीएचयू के मेनगेट पर गुरूवार को एकजुट हुए कांग्रेस सेवा दल के कार्यकर्ताओं ने जिला अध्यक्ष हरीश मिश्रा के नेतृत्व में राहगीरों और छात्रों को बीएचयू में हुए कथित भ्रष्टाचार के अलावा प्रधानमंत्री और वाराणसी के सांसद नरेन्‍द्र मोदी पर बीएचयू में ‘अयोग्‍य भारत’ का निर्माण करने का आरोप लगाया गया है।

लोकसभा चुनाव के पहले ही प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र की राजनीति में उबाल आना शुरू हो गया है। सियासी अखाड़ा बन चुके काशी हिन्दू विश्वविध्यालय में इस राजनितिक उबाल की गरमी दिखनी शुरू हो गयी है।

इस सम्बन्ध हरीश मिश्रा ने बताया कि बीएचयू में भाजपा और आरएसएस के इशारे पर कुलपति रहते हुए प्रोफ़ेसर जी सी त्रिपाठी ने अयोग्‍य प्रोफेसरों की नियुक्‍ती की है। उन्होंने कहा की 2015 से 2017 तक एक दो नहीं बल्‍कि 214 अयोग्‍य एवं अवैध प्रोफेसरों की नियुक्‍ति वाराणसी सांसद एवं प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में प्रोफ़ेसर जी सी त्रिपाठी के कार्यकाल में की गयी है।

उन्होंने ये भी कहा कि जो लोग इस कृत्य में शामिल है उनके खिलाफ कोई कार्रावाई भी नहीं हो रही है जो की सोचनीय विषय है।

कांग्रेस सेवा दल द्वारा बांटे गये पर्चे में आरोप लगते हुए कहा कि एनडीए की सरकार पर यह आरोप भी लगाया कि उनके शासनकाल में बीएचयू की छवि और गरिमा को पूरे विश्‍व में नीलाम और बेइज्‍जत करने की साजिश रची गयी है। हरीश मिश्रा ने पर्चे के माध्यम से बुद्धीजीवियों से आह्वान किया है कि वह भाजपा और आरएसएस के ऐसे प्रयासों का विरोध करें।