सभासद

चंदौली के चतुर्भुपुर की सभासद रीना देवी का पुत्र अगवा, 50 लाख की फिरौती की मांग

30

लगातार हो रही घटनाओं से मुगलसराय व आसपास के क्षेत्रों में दहशत…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

मुगलसराय: पिछले तीन माह में जिले में रंगदारी, हत्या, चोरी और फिरौती व अन्य अपराधों की बाढ़ सी आ गई है। पुलिस भले ही मामलों का खुलासा कर अपनी पीठ थपथपा लें लेकिन एक के बाद एक हो रही आपराधिक वारदातों से लोगों में भय व्याप्त है।

इसी कड़ी में नगर पालिका मुगलसराय के चतुर्भुपुर के सभासद रीना देवी के पुत्र व उसके मित्र का अपहरण कर 50 लाख रुपये फिरौती मांगे जाने का मामला सामने आया है। बुधवार को सभासद पति ने मुगलसराय कोतवाली पहुंचकर कर घटना के बाबत तहरीर दी। पुलिस मुकदमा दर्ज कर छानबीन में जुट गई।

सभासद रीना देवी के पति वीरू रावत के अनुसार मंगलवार की रात करीब आठ उसके पुत्र राहुल (17) का मित्र सत्यपाल उसके घर आया। इसके बाद दोनों एक साथ स्कूटी से कहीं चले गए। रात में करीब बारह बजे तक जब राहुल घर नहीं लौटा तो चिंता होने लगी।

अभी उसकी खोजबीन का प्रयास कर रही रहे थे कि करीब साढ़े बारह बजे वीरू के मोबाइल पर राहुल के मोबाइल नंबर से फोन आया। फोन पर एक युवक ने बताया कि राहुल की स्कूटी व चप्पल बाईपास स्थित मंदिर के पास पड़ी है जाकर उसे ले लो और राहुल के एवज में पचास लाख रुपये चाहिए।

फोन आने के बाद घबराए वीरू ने इसकी सूचना मुगलसराय पुलिस को दी। इसके बाद कोतवाल शिवानंद मिश्रा फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस की पड़ताल के बाद वीरू अपने पुत्र राहुल की स्कूटी और चप्पल लेकर घर चला आया।

बुधवार की सुबह कोतवाली पहुंचकर घटना के बाबत कोतवाली में तहरीर दी। इस संबंध में पुलिस अधीक्षक एसके सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और मामले की छानबीन की जा रही है। वहीं राहुल व उसके मित्र के अपहरण के मामले को पुलिस संदिग्ध मान रही है।

पुलिस अधीक्षक एसके सिंह ने बताया कि घटना से पूर्व राहुल का मित्र सत्यपाल गुप्ता एटीएम से पांच सौ रुपये निकालता है। इसके बाद दोनों रेमा जाते हैं जहां उनके साथ एक लड़की भी होती है। सभी लोग स्कूटी वहीं खड़ी करके एक काले रंग की स्कार्पियों से कहीं निकल जाते है।

सभासद के पुत्र के अपहरण के मामले में परिजनों ने बताया कि राहुल के मोबाइल पर कई दिनों से एक कॉल आ रही थी। फोन से उसे गालियां दी जाती थी। इस बात का एक बार जिक्र उसने घर में किया था। लेकिन लड़कों के बीच में होने वाले मामूली से आपसी विवाद का मामला समझकर परिवार वालों ने इसे नजरअंदाज कर दिया था।