दो वर्ष पूर्व हुई दोहरे बहुचर्चित इंजीनियर हत्याकांड में 10 दोषी करार, 75 करोड़ की मांगी गई थी रंगदारी

High Court- Janmanch
Janmanchnews.com
Share this news...
Pankaj Pandey
पंकज पाण्डेय

दरभंगा। दो वर्ष पूर्व सड़क निर्माण कर रही कन्स्ट्रक्शन कम्पनी के दो इंजीनियर को रंगदारी नहीं दिए जाने पर की गई हत्या के मामले में कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए दस आरोपियों को दोषी करार दिया है जबकि चार आरोपियों को बरी कर दिया है। बिहार में हुए इस दोहरे बहुचर्चित हत्याकांड के फैसले पर देशभर के लोगों की निगाह जमी हुई थी।

ज्ञात हो कि दरभंगा के बहेड़ी थाना क्षेत्र के शिवराम चौक पर एसएच 88 का निर्माण कार्य करा रहे बीएससी और सीएंडसी के इंजीनियर मुकेश कुमार और ब्रजेश कुमार को दिनदहाड़े एके-56 रायफल से अंधाधुंध फायरिंग कर गोलियों से भून डाला था।

इस हत्याकांड का कारण कुख्यात सन्तोष झा गैंग द्वारा कन्स्ट्रक्शन कम्पनी से 75 करोड़ की रंगदारी की मांग का पूरा नहीं किया जाना था। 26 दिसम्बर 2015 को घटी इस दोहरे हत्याकांड की प्राथमिकी बहेड़ी थाना में धीरज सिंह के बयान पर दर्ज की गई थी। जिसमें कुख्यात गैंगस्टर मुकेश पाठक और विकास झा सहित अन्य अज्ञात अपराधियों के विरुद्ध मामला दर्ज कराया गया था।

बहुचर्चित दोहरे इंजीनियर हत्याकांड मामले में आज कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए दस आरोपियों को दोषी करार दिया है और चार आरोपियों को बरी कर दिया है। अदालत में इस मामले का सत्र वाद सं.146/16 की सुनवाई स्पीडी ट्रायल के तहत पूरी हो गई थी और आज इस मामले में कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है।

पंचम अपर सत्र न्यायाधीश रुपेश देव की अदालत ने आज काराधीन अभियुक्तों को बीडीओ कान्फ्रेसिंग के माध्यम से फैसला सुनाया। रंगदारी की मांग को लेकर दिनदहाड़े दो इंजीनियरों की इस हत्याकांड की गूंज से पूरा बिहार थर्रा उठा था। अनुसंधान के दौरान इस केस में पुलिस ने कुल सोलह अभियुक्तों के विरुद्ध आरोप पत्र समर्पित किया था, जिसकी सुनवाई स्पीडी ट्रायल के तहत चल रही थी।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।