रायबरेली

नियमितीकरण को लेकर राष्ट्रीय साक्षरता कर्मी महासंघ का धरना लगातार पचीसवें दिन भी जारी

54

मांगे पूरी न हुई तो आमरण अनशन करेंगे प्रेरक…

Rahul Yadav

राहुल यादव

 

 

 

 

 

रायबरेली: सेवा बहाली के साथ नियमितीकरण और बकाया मानदेय समेत विभिन्न मागो के समर्थन मे राष्ट्रीय साक्षरता कर्मी महासंघ का धरना लगातार पचीसवे दिन भी जारी रहा। जिलाध्यक्ष अर्चना सिंह के नेतृत्व मे साक्षरता कर्मियो ने विकास भवन परिसर मे मांगे पूरी न होने तक लगातार धरना-प्रदर्शन और आन्दोलन को जारी रखने का संकल्प दोहराया। उन्होंने जल्द ही मांगे निस्तारित न होने की स्थिति मे जिला प्रशासन और सरकार को आमरण अनशन की चेतावनी दी है।

धरने को संबोधित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय सचिव अजमल खान ने कहा कि सरकार प्रेरको को असल मुद्दो से भटकाने के लिए पहले से मिल रही सेवाओं की लड़ाई मे उलझाकर रखना चाहती है।

जनवरी 2018 से बाधित सेवाओ को पुनः बहाल कर बेबुनियाद श्रेय लेने की सरकारी मंशा हम लोग अच्छी तरह से समझ रहे है। उन्होने कहा कि बकाया मानदेय भुगतान हमारा बुनियादी हक है। इससे हमे कोई भी ताकत वंचित नही कर सकती। इसलिए हम लोगो की लड़ाई सिर्फ सेवा बहाली ही नही बल्कि हम लोग 8 साल की नियमित सेवाओ के आधार पर स्थाईकरण का लक्ष्य लेकर चल रहे है।

उन्होंने कहा कि संगठन का यह अभियान प्रेरको के नियमितीकरण न होने तक लगातार जारी रहेगा। कार्यक्रम का संचालन जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष पारसनाथ मिश्रा ने किया। इस अवसर पर मुख्य रूप से सुरेश कुमार रावत किरन मिश्रा दिलीप कुमार सोनकर मिथिलेश तिवारी पवन यादव स्नेहलता मोती लाल शिव बहादुर मोनिका शर्मा प्रदीप सिंह धीरेन्द्र मौर्य आदि उपस्थित रहे।