well

दहेज लोभीयों ने विवाहित की हत्या कर शव को कुंआ में डाला

125
रघुनंदन मेहता की रिपोर्ट,
गिरिडीह। गिरिडीह जिले के बिरनी थाना क्षेत्र के केशोडीह पंचायत अंतर्गत ग्राम जमुनियांटांड में पुनः एक बार दहेज लोभीयों ने एक विवाहिता ललिता देवी की हत्या कर शव को गांव से डेढ़ किलोमीटर दूर बराकर नदी किनारे झरना के पास खेत मे बनी कुंआ में फेंक दिया।

विवाहिता मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के लेदा पंचायत अंतर्गत ग्राम गादी निवासी नारायण महतो की एकलौती बेटी थी। मृतिका की शादी 2006 में बिरनी थाना क्षेत्र के जमुनियांटांड निवासी एतवारी महतो के पुत्र संदीप बर्मा के साथ हुई थी। मृतिका की दो पुत्रियां पहली 10 वर्षीय कृति कुमारी एवं दूसरी 4 वर्षीय सोनम कुमारी है। मृतका का पति कलकत्ता में काम करता है मृतिका ललिता देवी बच्चो के साथ अपने सास ससुर एवं अपने तीन जेठानियों के साथ रहती थी।

मृतिका के भाई उमेश बर्मा ने बताया कि मेरी बहन को उनके पति, सास-ससुर एवं जेठानियों के द्वारा लगातार सिर्फ बेटी जन्म देने की इल्जाम लगा कर मारपीट व प्रताड़ीत किया करते थे। वहीं उसके सास-ससूर व पति द्वारा  दूसरी शादी करने की धमकी दिया करते थे। दो दिन पूर्व भी मेरी बहन के साथ सास ससुर एवं उनके जेठानियों द्वारा मारपीट की गई थी। कई बार समझौता को लेकर समाज के बीच बैठक भी किया गया था।

मालूम हो कि एक तरफ कुशवाहा समाज द्वारा बाल विवाह, दहेज प्रथा, विवाहितों की हत्या पर रोक लगाने को लेकर हर प्रखंडों में कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। वहीं दुसरी ओर दहेज लोभीऔं द्वारा लगातार हत्या की जा रही है।

घटना के संबध में मृतिका के भाई द्वारा बताया जाता है कि रविवार की रात लगभग सात बजे मृतका मेरी बहन की जेठानी का मंझला बेटा पवन बर्मा के द्वारा फोन पर जानकारी दी गयी की चाची कुंआ में गिर गयी जिससे उसकी मृत्यु हो गयी है।

घटना की सूचना मिलते हीं हमलोग रात के लगभग साढे आठ बजे जमुनियांटाड गांव पहुँचे। इधर घटना स्थल पर पहुंचकर मायके वालों ने बिरनी थाना को सूचना दी गयी तो करीब 10 बजे बिरनी थाना प्रभारी प्रशांत कुमार अपने दलबल के साथ पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया। घटना के बाद से मृतिका के ससुराल वाले सभी फरार है।

थाना प्रभारी ने बताया कि मृतका के परिजनों द्वारा अभी तक आवेदन नही दी गयी है आवेदन के बाद एफ.आई.आर दर्ज कर हत्यारों पर कार्रवाई किया जाएगा।