किसान भाइयों के आँखों में आंसू नहीं आने दूँगा: मुख्यमंत्री

Shivraj chauhan
File Photo: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान
Share this news...

राज कुमार जायसवाल की रिपोर्ट,

भोपाल। राजधानी के जम्बूरी मैदान पर आयोजित किसान महासम्मलेन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लगभग चार लाख किसानों के खातों में भावांतर भुगतान योजना के 620 करोड़ रुपए एक क्लिक पर खाते में हस्तांतरित किये। किसान सम्मलेन के लिए प्रदेश भर से किसानों को बसों से लाया गया है।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा मौसम विपरीत हो सकता है। परिस्थितियां विकट हो सकती हैं। किन्तु चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। राहत की राशि और फसल बीमा योजना की राशी जोड़ कर किसानों के नुकसान की भरपाई सरकार द्वारा की जाएगी। वहीं कांग्रेस पर भी निशाना साधते हुए सीएम ने कहा जब सत्ता की बागडोर आपके हाथ मे थी तब किसान याद नहीं आये।

मुख्यमंत्री ने कहा संकट की घड़ी में किसानों के साथ खड़ा हूँ, पूरी सरकार किसानों के साथ है। मंच से सीएम ने सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा, हमारी सरकार ने किसानों को 0 परसेंट पर ऋण दिया, किसानों के लिए भावान्तर योजना की शुरुआत की। हमारी भावान्तर योजना का अध्ययन करने अलग अलग प्रदेशों की टीमें प्रदेश आ रही है। मुख्यमंत्री ने भावान्तर भुगतान योजना में परिवर्तन के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा किसानों से चर्चा करूंगा, अगर इस योजना में कोई परेशानी आ रही है तो इसमें बदलाव किया जाएगा।

सीएम ने कहा आने वाले 5 सालो में 38 हजार करोड़ कृषि कार्यो में खर्च किया जाएगा। एक लाख करोड़ सिचाई पर खर्च किया जाएगा। सी एम ने किसानों से कहा कि फसल का भंडारण करके रखो। कुछ महीनों बाद बेचो। वेयर हाउस का किराया सरकार देगी। ज़रूरत पड़ने पर भंडारण की हुई उपज की कीमत का 25% आपको सहकारी बैंक द्वारा उपलब्ध कराया जायेगा। इस राशि पर लगने वाला ब्याज भी सरकार भरेगी।

सीएम ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा किसान क्रेडिट कार्ड को रुपे कार्ड में बदल दिया जायेगा। इससे ज़रूरत पड़ने पर आप सीधे एटीएम से पैसे निकाल कर उसका उपयोग खाद, बीज की खरीदी में कर सकेंगे। इसके लिए 4,523 कृषि साख सहकारी समितियों में माइक्रो एटीएम की व्यवस्था की जाएगी। एक हज़ार कस्टम प्रोसेसिंग और सर्विस सेंटर प्रदेश में खोले जाएंगे जो कि सिर्फ किसानों के बेटे-बेटियों के लिए होंगे। भारत भर में मंडियों में फसलों की कीमत ‘टिकर’ के माध्यम से राज्य के 150 मंडियों में दिखाई जाएगी।

नामांतरण की प्रक्रिया को सरल करने के लिए खसरे और बी1 की नकल व आदेश की प्रति एक माह के भीतर किसानों को प्रदान की जाएगी, यह प्रक्रिया तत्काल होगी। यदि किसान बिजली की व्यवस्था के लिए प्रयुक्त ट्रांसफार्मर बदलने के लिए लाते हैं तो उसकी ढुलाई का खर्च सरकार किसान को देगी।

सीएम शिवराज ने कहा कि जो डिफ़ाल्टर किसान हैं और किसी कारण से ऋण का भुगतान नहीं कर पाये हैं, उन्हें भी 0% ब्याज पर कर्ज़ मिल सके इसके लिए हम मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना ला रहे हैं, इससे किसानों को फायदा मिलेगा। मोरोसी कृषक प्रावधान को हटाने का निर्णय हमने लिया है जिससे किसान निर्भीकता के साथ पाँच साल के लिए अपनी ज़मीन बटाई पर दे सकेंगे। बटाई किसान सरकार की समस्त योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे।

गेंहू और धान पर 200 रुपए बोनस…

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि गेंहू और धान पर 200 रुपए बोनस दिया जाएगा|  वहीं  जो डिफ़ाल्टर किसान हैं और किसी कारण से ऋण का भुगतान नहीं कर पाये हैं, उन्हें भी 0% ब्याज पर कर्ज़ मिल सके इसके लिए हम मुख्यमंत्री ऋण समाधान योजना ला रहे हैं, इससे किसानों को फायदा मिलेगा। मोरोसी कृषक प्रावधान को हटाने का निर्णय हमने लिया है जिससे किसान निर्भीकता के साथ पाँच साल के लिए अपनी ज़मीन बटाई पर दे सकेंगे। बटाई किसान सरकार की समस्त योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे।

आपको बता दें कि पिछली फसल पर यह बोनस दिया जाएगा, चुनावी साल है, इसलिए सरकार भी चाहेगी कि किसानों को जल्द से जल्द इसका लाभ मिले, जिसके चलते माना जा रहा है कि जल्दी ही किसानों के खाते में यह राशि पहुँच सकती है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।