कांग्रेस के पूर्व सांसद नरसिंह नारायण का निधन, नेहरू और इंदिरा से रहा गहरा नाता

नरसिंह नारायण
फोटो: स्व नरसिंह नारायण
Share this news...
Priyesh Shukla
प्रियेश शुक्ला

गोरखपुर। गोरखपुर शहर के विंध्यवासिनी नगर बैंक रोड स्थित अपने प्रेमा कुंज में रहने वाले और कांग्रेस से सांसद रहे नरसिंह नारायण का उनके निवास स्थल पर आज निधन हो गया। उन्हें देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के खास सिपहसालारों में से एक गिना जाता था। स्व. नारायण से इन दोनों राजनेताओं का गहरा नाता था।

वर्ष 1971 में महंत अवेद्यनाथ जैसी शख्सियत को हराने वाले पूर्व सांसद नरसिंह नारायण पांडेय फरेंदा से वर्ष 1962 में ओएहली बार विधायक बने थे। तब जवाहर लाल नेहरू की नजर उन पर पड़ी थी। नेहरू ने ही इन्हें कांग्रेस ज्वाइन करने के लिए दिल्ली बुलाया। नेहरू के बुलावे पर नरसिंह नारायण 62 विधायकों के साथ दिल्ली पहुंचे थे और कांग्रेस ज्वाइन किया था।

नरसिंह नारायण
फोटो: स्व नरसिंह नारायण

तब से वह कांग्रेस की ही राजनीति कर रहे। उनके नाती रोहन पांडेय के मुताबिक नरसिंह नारायण ने वर्ष 1971 के लोकसभा चुनाव में महंत अवेद्यनाथ को हराया था। इसके बाद स्व. पांडेय की गिनती बड़े और कद्दावर नेताओं में होने लगी थी। स्व. नरसिंह नारायण मूलरूप से खलीलाबाद के बनियाबारी गांव के निवासी थे। ये पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह के भी बेहद करीबियों में शुमार रहे।

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता आलोक शुक्ल की मानें तो जिले में कांग्रेस के एक युग का अंत हो गया। नरसिंह नारायण के निधन से अपूर्णीय क्षति हुई है।

बता दें कि स्व. नरसिंह नारायण की पहली जनवरी को अचानक तबियत खराब हुई थी। हालात ठीक होने। पर उन्हें घर लाया गया था। जहां आज दोपहर में उनका स्वर्गवास हो गया। इनका अंतिम संस्कार कल होगा।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।