kushwaha samaj jila sammelan

कुशवाहा समाज द्वारा आयोजित जिला सम्मेलन बैठक रहा सफल

81
Raghunandan Mehta

रघुनंदन कुमार मेहता

गिरिडीह। कुशवाहा समाज द्वारा 28 अक्टूबर को सदर प्रखंड के कोवाड हटिया मैदान में आयोजित जिला सम्मेलन को सफल बनाने के लिए रविवार को कोवाड में जिले के प्रखंड कमेटीओं के साथ बैठक का आयोजन किया गया। बैठक कि अध्यक्षता संघ सदर प्रखंड अध्यक्ष अधिवक्ता राजकिशोर वर्मा ने किया।

मौके पर संघ के जिला अध्यक्ष अधिवक्ता पुरन महतो ने बैठक की। बिन्दूओं पर प्रकाश डालते हुऐ कहा कि अन्य समाज के लोग कुशवाहा समाज के कार्यों का अनुशरण कर कुशवाहा समाज से आगे निकल जा रहे हैं। जिसका मुख्य वजह है हम कुशवाहा समाज के लोग अब तक सिर्फ पति-पत्नी के विवादों को समझौता करने में अपना 37 वर्ष पीछे छोड़ दिऐ हैं। जिसकी भरपाई करना निकट भविष्य में संभव नहीं है।

संघ द्वारा बीते वर्ष धुरगडगी में आयोजित जिला सम्मेलन में लिए गऐ निर्णय को पुरी तरह धरा पर नहीं उतार पाऐ हैं। जिसमें कहीं न कहीं समाज के कुछ लोग बाधक बनकर सामने आ खडा हो गऐ थे। 28 अक्टूवर को कोवाड में आयोजित जिला सम्मेलन में समाज के ऐसे बिन्दूऔं को सामने लाया जाऐं जिसमें समाज के नीचले पायदान की भी रजामंदी हो। हर प्रखंड कमेटी अपने अपने प्रखंड में बैठक का आयोजन कर ग्राम कमेटी से जानने का प्रयास करें की बाल विवाह, कढुआ विवाह, दहेज प्रथा, मांसाहार भोजन पर रोक लगना चाहिए या नहीं।

उसका हर प्रखंड कमेटी एक प्रतिवेदन जिला कमेटी को दें जिससे जिला सम्मेलन में ग्राम कमेटी द्वारा लाई गयी बिन्दूओं को सही तरह से लागू किया जा सके। वहीं बैठक में उपस्थित जिला कांग्रेस कमेटी के जिला अध्यक्ष नरेश बर्मा ने कहा कि समाज को आगे ले जाने के लिए सामुहिक विवाह पर पहल करना चाहिए। जिससे बाल विवाह कढुआ विवाह खर्चीले विवाह व मासांहार पर भी रोक लगा सकती है।

प्रखंड कमेटी को इसपर भी ग्राम कमेटी के साथ होने वाली बैठक में चर्चा करनी चाहिए। जिससे समाज को एक नई दिशा दी जा सके। बैठक में सभी प्रखंड कमेटी को निर्देश दिया गया कि जिला सम्मेलन से सप्ताह दिन पूर्व हीं हर प्रखंडों में बैठक का आयोजन कर फिडबैक जिला कमेटी को उपलब्ध कराऐं।

बैठक में जिला उपाध्यक्ष दिगम्बर प्रसाद बर्मा, अधिवक्ता बसंत बर्मा, जिला महामंत्री ओम प्रकाश महतो, लेदा पंसस बसंत बर्मा, राजू महतो समेत जिले के विभिन्न प्रखंडों के प्रखंड अध्यक्ष शामिल थे।