giridih protest

अफगानिस्तान में बंधक मजदूरों की रिहाई तथा डुमरी में भूख से वृद्ध की हुई मौत को लेकर माले ने घेरा डीसी कार्यालय

17
Raghunandan Mehta

रघुनंदन कुमार मेहता

गिरिडीह। अफगानिस्तान के अपहृत मजदूरों की सकुशल वापसी, उनकी वापसी होने तक मजदूरों के परिवारों के भरण-पोषण की समुचित व्यवस्था संबंधित कंपनी से कराने तथा डुमरी प्रखंड में भूख से हुई मौत के मामलों को लेकर आज भाकपा माले ने घोषित कार्यक्रम के तहत गिरिडीह के डीसी कार्यालय का घेराव किया। घेराव की अगुवाई माले विधायक राजकुमार यादव तथा पूर्व विधायक विनोद सिंह कर रहे थे।

इसके पूर्व स्थानीय झंडा मैदान से सैकड़ों माले कार्यकर्ताओं ने कड़ी धूप के बावजूद झंडा बैनर लेकर जोरदार नारेबाजी करते हुए प्रतिवाद मार्च निकाला जो टावर चौक, कालीबाड़ी, मकतपुर चौक होते हुए डीसी कार्यालय के समक्ष जाकर प्रदर्शन और घेराव में तब्दील हो गया।

घेराव की अध्यक्षता करते हुए बगोदर के माले के प्रखंड सचिव पवन कुमार महतो ने कहा कि 1 माह बीत जाने पर भी अपहृत मजदूरों के बारे में कोई पता नहीं लगा पाना भाजपा सरकार की बहुत बड़ी नाकामी है और इसे हम यूं ही बर्दाश्त नहीं कर सकते।

घेराव कार्यक्रम को संबोधित करते हुए माले विधायक राजकुमार यादव ने कहा कि रघुवर सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। पलायन इस राज्य की एक प्रमुख समस्या बनी हुई है। मनरेगा में लोगों को काम नहीं मिल रहा और भूख से मौतें हो रही हैं। उन्होंने कहा कि जिले के सभी गरीबों का BPL में नाम दर्ज होना चाहिए तथा यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि कोई भी परिवार बिना राशन के ना रहे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक विनोद सिंह ने कहा कि डिजिटल इंडिया और अच्छे दिन की बात करने वाली भाजपा सरकार का तंत्र ना तो राशन की चोरी रोक पा रहा है और ना ही लोगों को रोजगार उपलब्ध करा पा रहा है।

उन्होंने कहा कि 1 माह बीतने के बावजूद सरकार को जितनी गंभीरता अपहृत मजदूरों की सकुशल रिहाई में दिखानी चाहिए वह दिख नहीं रही। लोग चुपचाप बैठे नहीं रह सकते उन्हें हर हालत में मजदूरों की सकुशल वतन वापसी चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि ग्रामीण इलाके में बेहतर मजदूरी के साथ मनरेगा को संचालित करवाया जाता तो यह स्थिति नहीं रहती। श्री सिंह ने कहा कि डुमरी में हुई भूख से मौत यह साबित करती है कि भाजपा शासन में गरीबों की क्या स्थिति है। उन्होंने आगामी 9 जून को जिलाव्यापी आंदोलन सफल करने का आह्वान किया।

Read this also…

अफगानिस्तान में झारखंड के चार मजदूरों का किया गया अगवा

आज के कार्यक्रम को पार्टी के राज्य कमेटी मेंबर सह विधानसभा के नेता राजेश यादव, सीताराम सिंह, परमेश्वर महतो, जयंती चौधरी, अशोक पासवान, संदीप जायसवाल समेत अन्य ने भी संबोधित किया।

बाद में माले के एक प्रतिनिधिमंडल से गिरिडीह के डीसी की मुलाकात हुई जिसमें पार्टी की मांगों पर विस्तार पूर्वक चर्चा हुई। इस बात पर जोर दिया गया कि कम-से-कम अपहृत मजदूरों के परिवारों को संबंधित कंपनी बकाया मजदूरी का भुगतान करें तथा जब तक उनका पता नहीं चलता तब तक उनके परिवार के भरण पोषण की समुचित व्यवस्था की जाए।

DC की ओर से सकारात्मक आश्वासन मिलने के बाद आज के कार्यक्रम को समाप्त करने की घोषणा की गई। साथ ही कहा गया कि 7 जून को इसी सवाल पर दिल्ली में अफगानिस्तान दूतावास के सामने आंदोलन होगा तथा 9 जून को पूरे गिरिडीह जिले में नए सिरे से आंदोलन होगा। हर हाल में मजदूरों की वतन वापसी और भूख से हो रही मौतों पर सरकार को रोक लगानी होगी।

अन्य लोगों के अलावा आज के कार्यक्रम में जिप सदस्य मनोवर हसन बंटी, राजेश कुमार सिन्हा, पूनम महतो, जयंती चौधरी, रेखा अग्रवाल, पवन महतो, भोला मंडल, विजय कुमार सिंह, किशोरी अग्रवाल, बैजनाथ यादव, रामेश्वर चौधरी, लालमणि यादव पूरो महतो, खगिया देवी, बगोदर प्रमुख मुस्ताक अंसारी, उप प्रमुख सरिता साव समेत अन्य थे।