ठंड की मार नहीं झेल पाए 40 वर्षीय कैलाश, मौत से प्रशासन ने झाड़ा पल्ला

UP Police
Janmanchnews.com
Share this news...
Priyesh Shukla
प्रियेश शुक्ला

गोरखपर। कैंट थाना क्षेत्र के गांधी गली में रहने वाले कैलाश ठंड की मार नहीं झेल पाए। रविवार को वे काल के गाल में समा गए। अब हालत यह है कि बिना किसी जांच के ही नगर आयुक्त इस मौत को बीमारी से होने वाली मौत करार दिया है, जबकि कैलाश के परिजन इस मौत को ठंड से होने वाली मौत कह न्याय की गुहार लगा रहे हैं।

इतना ही नहीं, संवेदनहीन प्रशासन ने कैलाश की मौत को ठंड से होने वाली मौत स्वीकार करने से साफ़ तौर पर मना कर दिया है।

बताया जा रहा है कि दलित कैलाश (बांसफोड़) अभी नौजवान था। हर दिन की तरह रविवार को भी सुबह उठकर उसने अपनी दिनचर्या की शुरुआत की। कम पर लग गए, लेकिन माली हालत ठीक न होने की वजह से वह ठंड से बचाव का पूरा इंतजाम नहीं कर पा रहा था। जितना संभव था, वह अपने परिजनों के करने के लिए करने के बाद ही अपने लिए कर पाया था।

कईयों से सहयोग लेने की कोशिश भी किया लेकिन लोगों ने उसे नौजवान कहकर काम करने और धन कमाने की नसीहत दी। वह यह कर रहा था कि लेकिन ठंड बचाव के कम संसाधन और परिजनों की चिंता ने कैलाश को ठंड का शिकार बना दिया।

इधर, कैलाश के निवास स्थल से कुछ दूरी पर रहने वाले नगर आयुक्त प्रेम प्रकाश का कहना है कैलाश की मौत ठण्ड से नहीं बीमारी से हुई है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।