bandh

आज भी कर्फ्यू, हाई कोर्ट ने प्रशासन की लापरवाही पर लगाई फटकार, पूछा का 8 लोंगो की मौत का जिम्मेदार कौन

1
Sarvesh Tyagi

सर्वेश त्यागी

ग्वालियर। एससी-एसटी एक्ट मामले में उपजे आक्रोश ने ग्वालियर-चंबल अंचल में 8 लोगों की जान ले ली। ग्वालियर, भिंड और मुरैना में मंगलवार को कर्फ्यू जारी है। मंगलवार सुबह भिंड के रौन थाना इलाके के राही का ट्यबवेल में एक शव बरामद हुआ है। मृतक का नाम दशरथ(50) बताया गया है। इसके साथ ही भिंड में उपद्रव में मरने वालों की संख्या बढ़कर चार हो गई है। गोहद में फिर हालात बिगड़ गए, कुछ लोगों ने मंत्री लाल सिंह आर्य के घर सहित कई जगह पथराव किया। सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची।

हालाँकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गए आदेश के बाद शहर में हुए  उपद्रव को लेकर उच्च न्यायालय अभिभाषक संघ द्वारा एक याचिका प्रस्तुत की, जिस् पर हाई कोर्ट ने सोमवार को तीन बार सुनबाई हुई। न्यांयमूर्ति संजय यादव की अध्यक्षता वाली युगलपीठ ने 11 बजे कहा कि शहर में उपद्रवी हिंसा कर रहे है, जब पुलिस को सूचना थी कि सोमवार को भारत बंद है इस दौरान कोई भी घटना हो सकती है, तो फिर पुलिस ने सुरक्षात्मक कदम क्यों नहीं उठाए। प्रशासन आंख बंद किये हुए वैठ रहा और शहर में उत्पात होता रहा। साथ ही हाई कोर्ट ने प्रशासन को निर्देश दिए कि बुधवार को स्टेटस रिपोर्ट पेश करे, वही ऐसी स्तिथ में क्या कदम उठाए जा सकते हैं, तथा इसके लिए  शासन की आगे क्या पॉलसी है।

सुबह से ही पुलिस ने अनाउसमेंट करवा दिया था कि कोई भी अपने घर से बाहर ना निकले। मुरैना में भी हालत सामन्य होते नजर नहीं आ रहे। जगह-जगह पर पुलिस बल तैनात है। यहां उपद्रवियों द्वारा उखाड़ी गई रेल पटरियों को ठीक कर दिया गया है। जिसके बाद से रेल परिवहन शुरू हो गया है। मुरैना के उत्तमपुरा में एक बार फिर विवाद के बाद फायरिंग हुई, सूचना मिलने के बाद पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और हालात पर काबू पाया।

यहां इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं। ग्वालियर में कलेक्टर ने सभी शस्त्र लाइसेंस निरस्त कर दिए हैं, उनके अगले आदेश तक यह निरस्त ही रहेंगे।हिंसाग्रस्त इलाकों में 550 डीएसपी और सब इंस्पेक्टर सहित 3 हजार जवानों को तैनात किया गया है। भोपाल में पुलिस मुख्यालय स्थिति पर नजर बनाए हुए है। सभी शिक्षण संस्थान दो दिन के लिए बंद रहेंगे। सोशल मीडिया पर मॉनिटरिंग की जा रही है। पुलिस ने करीब एक हजार लोगों के खिलाफ मालला दर्ज किया है। वीडियो और फोटो के जरिए हिंसा फैलाने वालों की पहचान की जा रही है।

मुरैना में रात भर फ्लैग मार्च रहा…

हिंसा के बाद पुलिस ने मुरैना में कर्फ्यू के बाद रातभर फ्लैग मार्च किया। जिले में सभी स्कूल और कॉलेज बंद हैं। कलेक्टर और एसपी समेत बड़ी संख्या में पुलिस बल अब भी इलाकों में घूम रहे हैं। मुरैना में उपद्रवियों ने रेल की पटरियां भी उखाड़ दी थीं, इससे कई ट्रेनें भी प्रभावित हुई हैं। झांसी आगरा पैसेंजर ग्वालियर तक ही चली, आगरा झांसी पैसेंजर को रद्द कर दिया गया। निजामुद्दीन से आने वाली गतिमान एक्सप्रेस को आगरा से ही वापस लौटा दिया गया। ताज एक्सप्रेस मंगलवार को रद्द रहेगी।

भोपल में धारा 144…

ग्वालियर-चंबल अंचल में फैली हिंसा के बाद भोपाल में भी असर दिखा जिसके चलते धारा 144 लागू की गई है। इसके साथ ही प्रदेश के सभी बड़े शहरों सहित उन इलाकों में विशेष सतर्कता बरती जा रही है, जहां सोमवार को विवाद हुए थे।