इसराइल की मदद से चम्बल में बन रहे हैं भारतीय सेना के लिए घातक हथियार

deadly weapon
Photo courtesy: alamy.com
Share this news...
Sarvesh Tyagi
सर्वेश त्यागी

ग्वालियर। जिन चंबल के बीहड़ों को डकैतों के लिए जाना जाता है उसी स्थान पर दुनिया के सबसे घातक हथियार बनाए जा रहे हैं। यह हथियार उस इजराइल की मदद से बनाए जा रहे हैं जहां के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू भारत की यात्रा पर आए हुए हैं। यह हिथयार भिंड के मालनपुर इंड्रस्टियल एरिया में पुंजलॉयड कंपनी भारतीय सेना के लिए बना रही है।

2 वर्ष जब भारतीय सेना की स्पेशल फोर्स के जवानों में पाक अधिकृत कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकवादियों के कैंपों को नष्ट किया था तो उनके पास इजराइल में बनी गन, टेवोर, गालिल थीं।

अगली बार स्पेशल फोर्स जब भी कभी सर्जिकल स्ट्राइक करेंगा तो उनके हाथों में  हथियार तो यही होंगे लेकिन विदेशी नहीं बल्कि मेड इन इंडिया। यह सभी गन तैयार भिंड के मालनपुर इंड्रस्ट्रियल एरिया की पुंजलॉयड फैक्ट्री में तैयार हो रही हैं।

इजराइल इन गन को अपनी राजधानी तेलअबीब में बना रहा है। इजरायल वैपन इंड्रस्ट्जी (आईडब्लूआई) कंपनी के साथ पुंजलॉयड ने समझौता किया है और मई महीने से प्रोडक्शन भी शुरू हो गया है।

विश्व स्तर हथियार बनेंगे मालनपुर में…

पुंजलॉयल की डिफेंस डिवीजन में टेवोरे.21 गलील एसोल्ट राईफल लाइट मशीन गन, गालिल स्नाइपर राईफल और एक्स.95 वर्ल्ड क्लास हथियार बनेंगे। इजराइल की वैपन्स इंड्रस्टीज (आईडव्लूआई) आर्मी की स्पेशल फोर्स, बल्कि एयर फोर्स और नेवी की आवश्यकताओं के हिसाब से हथियार तैयार किए जाएंगे। मालनपुर यूनिट में मशीन और प्लांट ठीक वैसा ही है जैसा इजरायल के नजदीक तेलअबीब में फैक्ट्री है। यहां पर फायरिंग रेंज भी बनाई गई है और सभी प्रकार के परीक्षण भी होंगे।

यह खासियत हैं स्पेशल फोर्स के हथियारों की… 

टेवोर-21… यह गन 550 मीटर तक अचूक निशाना लगाती है और हर मिनट में 650 फायर कर सकती है। मात्र 3.5 किसी वजन वाली इस गन से तुरंत हमला किया जा सकता है।

गालिल एसोल्ट राईफल… यह गन 750 मीटर तक अचूक निशाना लगाती है और हर मिनट में 750 फायर कर सकती है। इसी प्रकार की स्नाइपर गन भी बनती है।

नेगेव लाइट मशीन गन… साढ़े सात किलों वजन वाली यह गन फोर्स की पसंदीदा गन है और एक किमी तक अचूक निशाना लगाती है। एक मिनट में एक हजार राउंड फायर कर सकती है।

एक्स.95… यह टोवेर.21 का नया रूप है। छोटे आकार की यह गन मात्र 4 किलों वजन की होती है और एक किमी तक फायर कर 950 राउंड प्रति मिनट फायर कर सकती है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।