शातिर पत्नी ने पति की हत्या कर प्रेमी के मुंह पर फेंकी तेजाब

Murder
Janmanchnews.com
Share this news...
Pankaj Pandey
पंकज पाण्डेय

हैदराबाद। अपराधी चाहे जितना बड़ा शातिर हो आखिर कुछ न कुछ सुराग छोड़ ही देता है। वैसे भी कहावत है कि अपराध कभी छिपता नहीं है। देर-सवेर वह उजागर हो ही जाता है, फिर अपराधी सलाखों के पीछे जिंदगी भर पछताता एवं अपने किये का परिणाम भुगतता रहता है।

27 नवम्बर 2017 की रात हैदराबाद में  एम सुधाकर रेड्डी नामक व्यक्ति की हत्या हो जाती है। हत्या पति-पत्नी और ‘वो’ की वजह से की जाती है। यह हत्या एक तेलगु फ़िल्म ‘इवाडु’ की कहानी से प्रभावित होकर की जाती है। इवाडू फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह से अभिनेता प्लास्टिक सर्जरी के जरिए अपने रूप को बदल कर अपराध को अंजाम देता है।

गुनहगारों को यकीन था कि रील लाइफ के किरदारों की ही तरह वो रियल लाइफ में अपनी मंजिल तक पहुंचने में कामयाब हो जाएंगे। लेकिन ‘मटन सूप’ ने सारा राज उगल दिया। नतीजा सुधाकर के गुनहगार अब कानून की गिरफ्त में है।

27 नवंबर 2017 की रात को स्वाती और उसके कथित प्रेमी राजेश ने मिलकर सो रहे सुधाकर को बेहोशी का इंजेक्शन दिया। इंजेक्शन लगाए जाने के बाद सुधाकर रेड्डी बेहोश हो गया। सुधाकर के बेहोशी की हालत में सुधाकर की पत्नी  एम स्वाति और राजेश ने मिलकर लोहे की रॉड से हमला कर किया और लाश को ठिकाने लगा दिया।

सुधाकर के शव को ठिकाने लगाने के बाद एम स्वाति ने जो अगला कदम उठाया वह रोंगटे खड़े करने वाला था।  एम स्वाति ने अपने कथित प्रेमी राजेश के चेहरे पर तेजाब फेंक उसकी शक्ल खराब कर दी।

अपने इस भयानक कृत्य को अंजाम देने के बाद उसने अपने रिश्तेदारों को बुलाकर एक नई कहानी सुनाई। स्वाति ने बताया कि कुछ अज्ञात लोग उसके घर में घुसे और पेट्रोल से सुधाकर के ऊपर हमला किया।

सुधाकर के परिवार को विश्वास में लेकर स्वाति ने हैदराबाद के अपोलो अस्पताल में राजेश को भर्ती करा दिया। लेकिन राजेश के अस्पताल में भर्ती होने के बाद जो कुछ हुआ वह बेहद चौंकाने वाला था। इसी ने पूरा राज पर से पर्दा उठाया।

राजेश की देखभाल कर रही नर्स ने उससे कहा कि तेजी से स्वास्थ्य लाभ के लिए उसे मटन सूप पीना चाहिए। लेकिन राजेश ने अपने आपको वेजेटेरियन बताते हुए मटन सूप पीने से इनकार कर दिया। राजेश के इनकार के बाद सुधाकर के परिवार को शक हुआ क्योंकि सुधाकर नॉन वेजेटेरियन था और उसे मटन सूप बेहद पसंद था।

राजेश के इनकार और सुधाकर के परिवार के शक के बाद पुलिस ने इस मामले में दखल दिया। पुलिस के दखल के बाद सुधाकर हत्याकांड से राज का पर्दा उठ गया। पुलिस का कहना है कि आरोपी शख्स राजेश के फिंगर प्रिंट को सुधाकर के आधारकार्ड के फिंगर प्रिंट से मिलान की गई। लेकिन फिंगर प्रिंट मैच नहीं हुए।

सच्चाई सामने आने के बाद नगरकुर्नूल पुलिस ने आरोपी एम स्वाति को 10 दिसंबर को गिरफ्तार किया। इसके साथ ही पुलिस दूसरे आरोपी राजेश को भी गिरफ्तार करेगी, हालांकि उसके स्वस्थ होने का इंतजार हो रहा है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।