Ravikant tiwari gorakhpur

दूसरों की मदद करने वाले हाथ….प्रार्थना करने वाले होठो से ज़्यादा अच्छे होते है- रविकान्त तिवारी 

15
Priyesh Kumar "Prince"

प्रियेश कुमार “प्रिंस”

गोरखपुर। आजादी के इतने वर्षों बाद भारत ने आधुनिकता की ओर सार्थक कदम बढ़ाया है। नई दुनिया की बहुत सारी बातों को हमने स्वीकार कर लिया है। मनुस्मृति के सिद्धांतों के विपरीत हमने अपने संविधान में कई चीजों को स्वीकार किया है और उसे जीने की प्रतिबद्धता भी दिखाई है। हमने नर नारी के बीच असमानता को समाप्त करने का बीड़ा उठाया है। जाति, वर्ण भेद के बिना सबको उन्नति के समान अवसर उपलब्ध कराने की ओर अग्रसर है।कल कारखानों का विकास,शिक्षा का प्रसार ऐसी बाते है,जिससे हम इनकार नही कर सकते।

File Photo: मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का शुभारंभ करते रविकान्त…

हमे इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि नया भारत केवल सुख, सुविधा, स्वतंत्रता और भोग की दृष्टि से ही श्रेष्ठ नही हो, बल्कि उसमे शांति और संतोष का भी प्राचुर्य हो। और ये तभी संभव है जब मनुष्य सामाजिक, राजनीतिक व्यवस्था के साथ साथ धार्मिक मान्यताओं पर भी अमल करें।

हमे अपने रीत नीति परंपरा के साथ साथ मठ और मंदिरों के भी विकास और संरक्षण के बारे में सोचना चाहिए। जहां से मनुष्य जाति का कल्याण निहित है। मानव जाति कही किसी के सामने नही झुकती लेकिन ईश्वर और पुजारी के सामने झुकना पड़ता है। यही हमारी संस्कृति और परंपरा का आधार है। हमे समाज मे रह कर जनसरोकार से जुड़े कार्यो के प्रति भी अग्रसर रहना चाहिए क्यो कि नर सेवा ही नारायण सेवा है। दुसरों की मदद करने वाले हाथ,प्रार्थना करने वाले होठो से ज्यादा अच्छे होते है।

Ravikant tiwari gorakhpur

File Photo: रविकान्त का स्वागत करते लोग…

ये बातें उपभोक्ता एवं खाद्य वितरण मंत्रालय में भारत सरकार के नव नियुक्त सलाहकार रविकान्त तिवारी अपने गृह जनपद गोरखपुर के चौरी चौरा क्षेत्र के ग्राम सभा विशुनपुर मटियरा में श्री शिव-दुर्गा मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए स्थानीय लोगो से कही।

रविकान्त ने मंदिर सेवा समिति को मंदिर के रख रखाव व पूजा अर्चन हेतु 21000 हजार रुपये का नकद दान भी समर्पित किया। श्री तिवारी ने उपस्थित जनता का अभिवादन करते हुए यह भी कहा कि मेरा चौरी चौरा की धरती और यहां के लोगों से घर जैसा संबंध है।मैं यहां की जनता और क्षेत्र की निरंतर सेवा करता रहूंगा।इस क्षेत्र का विकास ही मेरा सतत प्रयास है।