प्रद्यूम हत्याकांड: सीबीआई करेगी जांच, हरियाणा सरकार नें तीन महीने के लिए स्कूल प्रबंधन को लिया अपने हाथों में

Pradhyumn Thakur
File Photo: Victim 7 Years Old Pradhyumn Thakur
Share this news...

सात वर्षीय प्राद्यूम ठाकुर के गले पर काटे जानें के दो घाव मिले थें, स्कूल सुपरवाईज़र को वॉशरूम में मिली थी खून से लथपथ बच्चे का मृत शरीर…

Shabab Khan
शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

हरियाणा: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शुक्रवार को गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल में सात वर्षीय लड़के प्रद्यूम ठाकुर की गला रेतकर की गई हत्या की सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है।

प्रद्यूम भोंडसी के सोहाना रोड स्थित रयान इंटरनेशनल स्कूल के कक्षा 2 का  छात्र था। स्कूल सुपरवाईज़र द्वारा 8 सितंबर को स्कूल के एक वॉशरूम से खून से लथपथ बच्चे की लाश बरामद की गई थी।

हरियाणा के मुख्यमंत्री नें कहा कि, “यह घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण थी। आज मैं यहां बच्चे के शोकाकुल परिवार से मिलने आया हूं। इस केस की जांच को सीबीआई को सौंपने के लिए परिवार के सदस्यों और कई अन्य लोगों की मांग है। हालांकि हरियाणा पुलिस इस मामले में ठीक से जांच कर रही है। इसके बावजूद हताहत के परिजनों और आम जनता की मांग के मुताबिक यह मामला जांच के लिए सीबीआई को सौंप दिया गया है। मैं मामले की जल्द से जल्द जॉचकर नतीजे पर पहुँचने कर दोषी या दोषियों के खिलाफ विधिक कार्यवाई के लिए सीबीआई से अपील करता हूँ।”

Ryan International School
File Photo: Inconsolable Mother of deceased student of class 2. Police Party in Ryan International School

मुख्यमंत्री नें आज प्रद्यूम के घर जाकर उसके परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की।

स्कूल के खिलाफ किसी भी कार्रवाई पर, खट्टर ने कहा कि “सरकार ने तीन महीने के लिए स्कूल के प्रबंधन को हटाकर उसकी बागडोर अपने हाथों में ले ली है। डिप्टी कमिश्नर (गुरुग्राम) की देखरेख में, स्कूल की प्रणाली और सुरक्षा व्यवस्था को मॉनिटर कर ट्रैक पर लाया जाएगा।”

पीड़ित के पिता वरुण ठाकुर ने कहा कि ऐसे मामलों में स्कूल प्रबंधन की जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए। “भविष्य में, स्कूलों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि ऐसी घटनाएं उनके परिसर में किसी भी हालत में न हो।”, उन्होंने कहा। उन्होंने इस मामले में जांच की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया है।

पुलिस ने स्कूल के बसों में से एक के कंडक्टर अशोक कुमार को हत्या वाले दिन ही गिरफ्तार कर लिया था जो इस मामले में मुख्य संदिग्ध है। पुलिस के अनुसार, कुमार ने पूछताछ के दौरान अपने अपराध को कबूल किया है। जबकि परिवार और जनता का एक बढ़ा वर्ग मान रहा है कि हत्याकांड में कंडक्टर को एक मोहरे की तरह इस्तमाल किया जा रहा है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।