पानी

जिले की जनता को प्योर ठंडा पानी के नाम पर पिलाया जा रहा है जहर, अधिकारी मौन

13

बड़े ब्रांड से मिलते-जुलते नाम के पानी के पाऊच-बोतलों से भरा है बाजार, गुणवत्ता की कोई गारण्टी नही…

Mithiliesh Pathak

मिथिलेश पाठक

 

 

 

 

 

 

श्रावस्ती: ज्येष्ठ माह में गर्मी के बढते ही जिले भर में संक्रामक रोग अपना पैर पसारता जा रहा है। डाक्टर मरीजों को भरपूर मात्रा में शुद्ध पानी पीने की सलाह दे रहे हैं। इससे।बाजारों में पानी की बोतलों व पाउच की मांग बढ गई है, ऐसे में पानी के व्यापारी जनता को दूषित व कीडे मकौडे युक्त पाउच पानी परोस रहे हैं।

बुधवार को जनमंच संवाददाता ने पानी की शुद्धता जानने के लिए बाजार में बिक रहे दुकानों से एक पाउच ठंडा पानी खरीदा। लेकिन पानी पाउच देख कर दंग रहा गया। पाउच के अन्दर पानी में मरा हुआ कीडा पडा हुआ था। पानी पाउच पर बडे बडे अक्षरों में बिसलहरी लिखा हुआ है। लेकिन कहां पर पैकिंग हुई है इसका कोई पता नही लिखा है। दुकानदार से यह पूछे जाने पर कि यह पानी पाउच कहा से आ रहा है तो दुकानदार ने बताया कि इकौना तहसील के बगल इस पानी की पैकिंग की जाती है।

वैसे तो क्षेत्र में पानी के पाउच बनाने वाले कई संस्थान पाउच पानी बेंच रहे हैं। लेकिन इकौना बाजार सहित आसपास के बाजारों में इसी ब्रांड की पानी पाउच की बिक्री होती देखी जा रही है। बताया जाता है कि पानी के पाउच व बोतल पर ब्रान्डेड कंम्पनी के लेबल लगा कर बाजार में बेच रहे हैं। खाद्य विभाग सहित संबन्धित विभाग के अधिकारियों की सांठगांठ से पानी पाउच की पैकिंग करने वाले दूषित व कीडे मकौडे युक्त पानी से जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड कर दस गुना लाभ कमाया जा रहा है।

यह सिर्फ बानगी भर ही है, पूरे जिले में साफ और स्वच्छ पानी देने के नाम पर लोगों के जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है, जिले में सैकड़ों प्रतिष्ठानों ने अपनी अपनी मार्केट बना रक्खी है, वाहनों पर लाद कर घर घर ठंडा पानी बेच रहे हैं, परन्तु इस पानी की जांच या कारखाने की जांच करना भी अधिकारी मुनासिब नही समझते। चन्द पैसे लगाकर भोली भाली जनता से लाखों की वसूली हर माह धड़ल्ले से की जा रही है।