शहर में IPL सट्टेबाजी के बढ़ते काले कारोबार से चिंतित व्यापार मंडल के प्रतिनिधि मिले आईजी वाराणसी ज़ोन से

सट्टेबाजी
Varanasi Businessmen met IG Zone Varanasi with the request to curb the IPL betting practice in Kashi...
Share this news...

सट्टेबाजी के चलते बरबाद हो रहे हैं घर, शहर में बढ़ गयी है अपराधों की फेहरिस्त…

Tabish Ahmed
ताबिश अहमद

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: आईपीएल मैचों पर लगनें वाली बेटिंग यानि सट्टे से समाज पर पड़ रहे खतरनाक असर से चिंतित व्यापारियों का एक प्रतिनिधिमण्डल आज आईजी वाराणसी ज़ोन दीपक रतन से मिला। वाराणसी व्यापार मंडल के अध्यक्ष अजीत सिंह बग्गा व एक दर्जन व्यापारियों नें शहर में पोस्टेड कई दरोगाओं की भी शिकायत की है।

बरबाद होते घर-कारोबार
इस सम्बन्ध में अजीत सिंह बग्गा ने कहा कि आईपीएल के सट्टे के चलते व्यापार और घर बर्बाद हो रहे हैं। बीते दिनों इसी के चलते एक युवक कि हत्‍या कर दी गयी थी, इसलिए तत्काल प्रभाव से इस पर अंकुश लगना चाहिए।

बढ़ते अपराध
व्‍यापारियों के अनुसार लम्बे अंतराल बाद अचनाक लूट, हत्या, बलात्कार, छीनैती, चोरी आदि जैसी घटनाएं शहर के साथ साथ ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ गयी हैं, ऐसे में व्‍यापारी वर्ग डरा हुआ है। व्‍यापारियों के दल ने आईजी से मांग की कि शहर के थानों पर तेज-तर्रार दरोगाओं को चार्ज दिया जाना चाहिए।

आईजी की बात नहीं मानते थानेदार
व्‍यापारियों के प्रतिनिधिमंडल ने आरोप लगाया कि हाल के दिनों में शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में अचानाक अपराध के ग्राफ में वृद्धि आयी है। व्‍यापारियों के अनुसार इससे आम जनमानस सहित व्यपारियों में दहशत का महौल है। व्‍यापारियों ने कहा कि आईजी जोन के आदेश है कि व्यपारियों संग थानाध्यक्ष नियमित बैठक करें, इसके बावजूद हमारी समस्याएं थाने पर नहीं सुनी जा रही हैं। व्‍यापारियों ने मांग की कि हर महीने एक निश्‍िचत तिथि पर थानेवार व्‍यापारियों की बैठक होनी चाहिये। साथ ही हर तीन महीने में आईजी रेंज खुद भी व्‍यापारियों के साथ चर्चा करें।

थाने और चौकी भ्रष्टाचार में लिप्त
आईजी से मिलकर व्‍यापारियों ने आरोप लगाया कि जिले के ज्‍यादातर थाने और पुलिस चौकियां भ्रष्‍टाचार में गले तक डूबे हुए हैं। पुलिस अधिकारी ऐसे थाने-चौकियों को चिह्नित करवा कर संबंधित प्रभारियों को दंडित करें।

दर्ज हो एफआईआर
व्‍यापारियों के अनुसार बिना थानाध्‍यक्षों की अनुमति के एफआईआर दर्ज नहीं की जाती हैं, इससे पीड़ित पक्ष काफी परेशान होता है। वाराणसी व्‍यापार मंडल ने आईजी से मांग की कि आप अधिकारी की ओर से आदेश होना चाहिए कि पीड़ितों की एफआईआर तुरंत दर्ज की जाएं।

व्यापारियों से सहमत दिखे आईजी
व्‍यापारियों की बातें सुनने के बाद आईजी रेंज ने उनकी सभी प्रमुख मांगों को जायज ठहराया और कार्रवाई का आश्‍वासन दिया। एफआईआर दर्ज कराने वाली बात पर आईजी रेंज ने बताया कि पब्‍लिक को ज्‍यादातर मामलों में थानों की दौड़ लगाने की आवश्‍यक्‍ता नहीं है, इसके लिये ऑनलाइन तरीके से ही गैरनामजद एफआईआर दर्ज करायी जा सकती है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।