BJP

भाजपा के नाम पर दबंगई से इलाहाबाद के यमुमापार क्षेत्र में पनप रहा है भारी असंतोष

47

पत्रकारों का सबसे ज्यादा शोषण इसी क्षेत्र में, भाजपा जिलाध्यक्ष पर दर्ज हैं कई मुकदमें लेकिन दबाव में अबतक कोई कार्यावाही नही…

–सत्यम शुक्ला


इलाहाबाद(लेडियारी): भाजपा कार्यकर्ताओं को लेकर आये दिन दबंगई की शिकायते कम होने का नाम नही ले रही है। राजनीतिक पार्टियों में सबसे ज्यादा अपराध करने वालों में भाजपा के ही कार्यकर्ता आगे बढ़ रहे हैं चाहे वह धान क्रय केन्द्र हो या पत्रकारों पर हमले और अभद्रता का मामला हो। थाने पर पहुँचकर थानेदार पर दबाव तो कहीं तहसील में गुण्डई एक जगह भारतीय जनता पार्टी के ही लोगो का नाम सामनें आ रहा है।

बता दें कि जब केन्द्र व राज्य में चुनाव हुआ तो प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री ने अपने बड़े बड़े भाषण में दबंगो को न बख्शे जानें की बात कही थी, पत्रकारों के साथ  अभद्रता करने पर कड़ी कार्रवाई करनें की बात भी योगी आदित्यनाथ नें कहा था। लेकिन जैसे ही सत्ता में आये सारे वादो को भुलाकर इनके ही सदस्यों नें दबंगई करना शुरू कर दिया।

इस सरकार मे तो सबसे ज्यादा इलाहाबाद जिले में पत्रकारों का उत्पीड़न हो रहा है, पूरे जिले में कोई ऐसा थाना नहीं है जहाँ पत्रकारों पर हमला या बदसुलूकी न हुई हो।

इसी तरह के एक मामले में भाजपा के जिलाध्यक्ष शिवदत्त पटेल पर खीरी थाने में 323, 504, 506, 354, 427, 308, 147,148, 452 धाराओं के तहत मुकदमा लिखा गया है। जिसमें किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई आज तक नहीं हुई है। वहीं सिलौधी निवासी जमुनादेवी के साथ इनके भतीजे ने छेड़खानी की जिस पर कोई कार्रवाई न होने पर जमुनादेवी ने जुलाई 2017 में सुभाष चौराहा इलाहाबाद में अपने शरीर पर मिट्टी का तेल छिडकर जब आत्मदाह का प्रयास किया तो भाजपा जिला अध्यक्ष के भतीजे पर कार्रवाई हुई।

इसी प्रकार भाजपा जिलाध्यक्ष ही नहीं बल्कि कुछ बड़े पद वालों पर भी कम मुकदमा दर्ज नही है। कोरांव के क्षेत्रीय विधायक राजमणी कोल पर भी क्षेत्रीय लोगों ने काफी नाराजगी जाहिर की है, लोगों का कहना है कि विधायक जी  अपना ही काम कर रहे हैं और यदि कोई समस्या लेकर जाता है तो निधि न होने की बात कह कर टाल देते हैं, इस प्रकार लोगों ने अपनी समस्या को देखते हुए सबसे ज्यादा खराब भाजपा के ही सरकार को बताया।