bakri chori

बकरी चोरी की मिली ऐसी सजा की उसे कहना पड़ा फिर कभी चोरी नहीं करूँगा

92

सरफराज अहमद की रिपोर्ट, 

खगड़िया। बकरी चोरी करने के प्रयास में ग्राम कचहरी के सरपंच द्वारा सुनाई गई सजा की चर्चा चारों ओर हो रही है। शुक्रवार को बकरी चोरी की इस घटना की सजा शनिवार को सुनाते हुए बकरी चोरी के प्रयास में पकड़े गए आरोपित को ग्राम कचहरी के सरपंच ने लोगों के साथ विचार-विमर्श कर के सजा के तौर पर 50 फलदार पौधा लगाने की सजा दी।

मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को बेला-नौवाद गांव निवासी उचित तांती की पुत्रवधू की बकरी नहर किनारे बथान पर खूंटे से बंधी हुई थी। इसी दौरान गांव के ही किशोर शर्मा नामक एक युवक ने उक्त बकरी को चुराने का प्रयास किया और हो-हल्ला होने पर वह वहां से भाग खड़ा हुआ। इसको लेकर उचित तांती की पुत्रवधू ने ग्राम कचहरी में शिकायत दर्ज करवाई।

उसकी शिकायत पर  शनिवार को ग्राम कचहरी लगाई गई। जिसमें आरोपित किशोर कुमार ने अपने गुनाह को कबूल किया। जिसके बाद मौके पर उपस्थित कचहरी के सरंपच शशि शर्मा ने आरोपित किशोर कुमार को सजा के तौर पर 50 फलदार पौधे  लगाने एवं इसकी नियमित देखभाल करने की सजा सुनाई।

आरोपित ने फैसले को स्वीकार करते हुए शनिवार को 15 पौधे लगाया। मौके पर न्याय सचिव प्रमोद कुमार, शिक्षक ब्रजेश कुमार, जयप्रकाश यादव के अलावा दर्जनों गणमान्य लोग उपस्थित थे। किशोर कुमार अब इन पौधों की देखभाल अपने पैसे से करेगा और फिर कभी चोरी नहीं करेगा।