कृषि विभाग में तैनात 32 वर्षीय बाबू की संदिग्ध मौत पर बवाल

photo
janmanchnews
Share this news...
Mithiliesh Pathak
मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। आज के आधुनिक जीवन में हर कोई मानसिक रूप से किसी न किसी प्रकार से बेहद टेंशन में है। जिस कारण कभी कभी व्यक्ति बेहद खतरनाक कदम भी उठाने से बाज़ नहीआते। ताज़ा मामला श्रावस्ती जनपद से आया हैं, जहां कृषि विभाग में तैनात 32 वर्षीय युवक की संदिग्ध मौत ने सबको हैरत में डाल दिया है, क्या उसकी मौत आत्महत्या है या मानसिक दवाब के चलते उसने अपने ही रूम में फांसी लगा ली, कुछ अभी तक स्पष्ट नही हो पाया हैं।

मामला भिनगा कोतवाली के भींगी तिराहे का है, जहां पर किराए के मकान में पत्नी और 3 मासूम बच्चियों के साथ मनोज सिंह रहता था, जो मूलतः शामली जिले का निवासी था। रविवार शाम को जब पत्नी उसके कमरे में गयी तो वह अचेत मिला। आनन फानन पत्नी उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंची तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पत्नी पिंकी सिंह में पुलिस को तहरीर देकर उप कृषि निदेशक जशपाल पर आरोप लगाया गया है कि कई माह से उसे वेतन नही दिया जा रहा था। साथ ही अधिकारी द्वारा उसे मानसिक रूप सर प्रताड़ित भी किया जा रहा था, जिससे आहत होकर पति ने आत्महत्या कर ली है। पत्नी ने अधिकारी पर कार्यवाही की मांग की है। वेतन न मिलने से राशन, किराया, सब्जी आदि का काफी बकाया भी चल रहा था, जिससे पति काफी आहत था।

उधर विभाग के कर्मचारियों ने कार्यालय पर ताला जड़कर कार्य का बहिष्कार भी कर दिया है।

नाराज परिजनों ने सहयोगी कर्मचारियों के साथ मिलकर भिनगा बहराइच फोरलेन मार्ग पर जिला अस्पताल के सामने जाम लगा दिया और नारेवाजी करते हुए जमकर घण्टों प्रदर्शन किया। लगभग ढेड़ घंटे तक जाम लगा रहा और आवागमन बाधित रहा। जाम की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस और अधिकारियों ने समझा बुझा कर मामला शांत कराया। जिला अधिकारी दीपक मीणा ने उचित कार्यवाही और हर सम्भव मदद का पीड़ितों को आश्वासन दिया है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।