HD Kumaraswamy

कर्नाटक के 24वें मुख्यमंत्री के तौर पर कुमारस्वामी ने शपथ ली, 10 दलों के मुखिया मंच पर मौजूद

69

बेंगलुरु. जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) विधायक दल के नेता एचडी कुमारस्वामी ने कर्नाटक के 24वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। कुमार के अलावा उप मुख्यमंत्री के तौर पर कांग्रेस के जी परमेश्वर भी शपथ ली।

इस मौके पर 10 राजनीतिक दलों के मुखिया मंच पर मौजूद रहे। मायावती ने मंच पर मौजूद सोनिया गांधी-राहुल गांधी, अखिलेश से मुलाकात की। इस शपथ ग्रहण में 2019 का संभावित मोदी विरोधी मोर्चा नजर आया। मौजूदा समय में इस मोर्चे के पास देश की 128 लोकसभा सीटें हैं। शपथ ग्रहण के अगले ही दिन यानी 24 मई को कुमारस्वामी कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करेंगे और इसके बाद ही मंत्रियों के विभागों का बंटवारा भी किया जाएगा।

9 दलों के मुखिया ने साझा किया मंच

पार्टी नेता लोकसभा सीटें
कांग्रेस राहुल, सोनिया 48
तृणमूल ममता बनर्जी 34
टीडीपी चंद्रबाबू नायडू 16
माकपा सीताराम येचुरी, पिनाराई विजयन 09
सपा अखिलेश यादव 07
राजद तेजस्वी यादव 04
आप अरविंद केजरीवाल 04
एनसीपी शरद पवार 06
कुल-128

– इन नेताओं के अलावा मायावती और राष्ट्रीय लोकदल के प्रमुख अजित सिंह के भी शपथ ग्रहण में शामिल हुए।

11 लोकसभा सीटों वाले टीआरएस चीफ शपथ ग्रहण के पहले ही मिले

तेलंगाना राष्ट्रीय समिति के प्रमुख और तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसी राव ने शपथ ग्रहण से पहले ही मंगलवार को बेंगलुरु में एचडी कुमारस्वामी से मुलाकात की।

राव ने कहा कि हैदराबाद में बुधवार को होने वाली कलेक्टर कॉन्फ्रेंस के चलते वे शपथ ग्रहण में शामिल नहीं हो सकते, इसलिए उन्होंने पहले ही कुमारस्वामी से मिलकर उन्हें शुभकामनाएं दीं।

मंत्रिमंडल के लिए 12:22 का फॉर्मूला फिक्स

केसी वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस-जेडीएस के बीच मंत्रिमंडल को लेकर 22:12 फॉर्मूला पर सहमति बन गई है। यानी 34 मंत्रियों में से 22 कांग्रेस के होंगे और 12 जेडीएस के। इनमें मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। विभागों का बंटवारा विश्वासमत साबित करने के बाद होगा।

गठबंधन सरकार चलाना बड़ी चुनौती- कुमारस्वामी

कुमारस्वामी ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार चलाना उनके जीवन की बड़ी चुनौती है। मुझे ये नहीं लगता कि मुख्यमंत्री के तौर पर मैं अपनी जिम्मेदारियां आसानी से पूरी कर पाऊंगा।

कुमारस्वामी शपथ ग्रहण से पहले श्रृंगेरी मठ में दर्शन के लिए आए थे। उन्होंने कहा कि केवल मैं ही नहीं, राज्य के लोगों में भी इस बात को लेकर आशंका है कि ये सरकार सामान्य तरीके से चल पाएगी या नहीं। लेकिन, मुझे विश्वास है कि शारदाम्बे और श्रृंगेरी जगद्गुरु के आशीर्वाद से सबकुछ ठीक होगा।