कमिश्नर नें जांच के दौरान पकड़ा विकास कार्यों में प्रयोग किया जा रहा है दोयम दर्जे का ईंट

ईंट
Varanasi Commissioner found third grade construction material is being used in development works in Varanasi...
Share this news...

काशी को क्‍योटो बनाने में इस्तेमाल हो रहा है सबसे खराब क्वालिटी का मटिरियल, ऐसे में फ्लाईओवर गिरने जैसी कोई दूसरी घटना नही होगी इसकी कोई गारंटी नहीं…

Shabab Khan
शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: शहर में हाल ही में धराशाई हुये फ्लाईओवर की घटना के बाद शायद आपको ये जानकर हैरानी न हो कि पीएम के संसदीय क्षेत्र काशी में विकास की जो ‘इमारतें’ खड़ी की जा रही हैं उनमें से एक में दोयम दर्जे का मैटेरियल मिला है। शुक्रवार को खुद वाराणसी के कमिश्‍नर दीपक अग्रवाल ने इस बड़े खेल को पकड़ा है।

कमिश्नर दीपक अग्रवाल उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम ‘सूडा’ इकाई द्वारा सारनाथ में 119 निर्माणाधीन आवासों एवं पं दीनदयाल उपाध्याय चिकित्सालय, पाण्डेयपुर के उच्चीकरण कार्य के दौरान प्रयोग किये जा रहे दोयम एवं थर्ड ग्रेड ईंटो को देख बिफर पड़े। सारनाथ में बीएसयूपी योजना के अन्तर्गत 3398.77 लाख लागत से काम चल रहा है, जबकि पांडेयपुर में सीएण्डडीएस योजना में सरकार द्वारा 814.35 लाख रुपये से काम कराया जा रहा है।

कमिश्‍नर दीपक अग्रवाल ने सीएण्डडीएस के अफसर से प्रोजेक्ट डीटेल तलब कर लिया है। साथ ही तुरंत एक नंबर-1 ईंट का प्रयोग किये जाने की हिदायत दी है। कमिश्‍नर ने राजकीय निर्माण निगम के अभियंता को भी आवासों के निर्माण में उच्च गुणवत्ता की सामग्री का प्रत्येक दशा में प्रयोग किये जाने की चेतावनी दी।

कमिश्‍नर ने बीएसयूपी योंजना के अन्तर्गत लाभार्थियों के लिये बनाये जा रहे आवासों को अभियान चलाकर प्रत्येक दशा में जून, 2018 तक पूरा कराये जाने का निर्देश दिया गया है। कमिश्नर दीपक अग्रवाल शुक्रवार को निर्माणाधीन परियोजनाओं का स्थलीय निरीक्षण कर रहे थे।

पं० दीनदयाल उपाध्याय चिकित्सालय, पाण्डेयपुर के उच्चीकरण कार्य की धीमी प्रगति पर भी कमिश्नर ने नाराजगी जताते हुए युद्वस्तर पर अभियान चलाकर निर्धारित अवधि में कार्य को पूरा कराये जाने का निर्देश दिया।

उन्होने 748.38 लाख लागत से पुलिस लाइन वाराणसी में 200 क्षमता के बहुमंजिली बैरक का निर्माण कार्य दिसम्बर, 2018 तक पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। शिवपुर में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत 405.00 लाख की लागत से निर्माणाधीन अर्बन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के निर्माण कार्य की गति धीमी होने पर नाराजगी जताते हुए कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया।

आसरा आवास योजनान्तर्गत 251.00 लाख की लागत से अकथा में निर्माणाधीन 48 आवासों को 15 सितम्बर तक पूरा कराये जाने का निर्देश दिया।

उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम सूडा इकाई द्वारा बीएसयूपी योजनान्तर्गत 3398.77 लाख लागत से सारनाथ में 119 निर्माणाधीन आवासों के स्थलीय निरीक्षण के दौरान गुड़िया एवं प्रमिला लाभार्थी से कमिश्नर ने पूछा कि किसी ने पैसा की मॉग तो नही की। इस पर लाभार्थियों न नही में जबाब दिया।

इस दौरान प्रमिला के आवास के बाहर रखे ईट पर कमिश्नर की नजर पड़ते ही उन्होने एक ईट उठा ली और राजकीय निर्माण निगम सूडा इकाई के मौजूद अभियंता को दिखाते हुए पूछा कि इस दोयम दर्ज के ईट का प्रयोग क्यों हो रहा है।

अभियंता द्वारा सफाई एवं दोयम दर्ज के ईट को अव्वल बताये जाने पर कमिश्नर ने हाथ से ईट को जमीन पर छोड़ दिया और ईंट दो टुकड़े में होते ही अभियंता के सिर से पसीना चूने लगा। कमिश्नर ने अव्वल दर्जे के ईंटों का प्रयोग ही किये जाने की सख्‍त हिदायत देते हुए प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तलब कर लिया है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।