मदरसों में मोदी का फोटो शारिया के खिलाफ: दारूल उलूम

Mufti Arshad Farooqi
Mufti Arshad Farooqi of Darul Uloom is not convinced to have PM Modi's photo in Madarsa...
Share this news...

देश के सभी शैक्षिक संस्थानों, मदरसों के लिए पीएम मोदी की फोटो स्थापित करने के निर्देश पर बोले मुफ्ती अर्शद फारूक़ी…

Shabab Khan
शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

नई दिल्ली: दारूल उलूम फतवा विभाग के अध्यक्ष मुफ्ती अर्शद फारुक़ी ने आज कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मदरसा में तस्वीर शारिया के खिलाफ है। उत्तराखंड सरकार द्वारा जारी किए गए निर्देश जिसमें देश में सभी शैक्षिक संस्थानों (मदरसों सहित) के लिए उन्हें अपने परिसर में प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर लगाने के लिए अनिवार्य बनाता हैं पर प्रतिक्रिया देते हुये मुफ्ती नें कहा।

“कभी भी किसी कार्यरत प्रधानमंत्री की तस्वीर मदरसे में लगानें का निर्देश किसी भी सरकार नें नही दिया, तो अब ऐसा क्यों? सरकार को आदेश जारी करने से पहले सोचना चाहिए कि कहीं वो शरीयत के खिलाफ तो नही। ऐसे आदेश मुसलमानों के धार्मिक भावनाओं को प्रभावित करते हैं,” अर्शद फारूक़ी नें कहा।

पिछले शुक्रवार, उत्तराखंड सरकार नें मोदी की तस्वीर को मदरसों में लगानें का निर्देश जारी किया था, जिसे पिछले साल स्वतंत्रता दिवस के तुरंत बाद जारी किया गया था। राज्य में मदरसों के पदाधिकारियों ने “धार्मिक आधार पर” निर्देश का पालन करने से मना कर दिया था।

राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मदरसों से अपनी ज़िद छोड़कर निर्देश पर अमल करने का अाग्रह करते हुये कहा कि “अन्य पारंपरिक संस्थानों की तरह मदरसे भी पारंपरिक सोच को बदलें और शैक्षिक संस्थानों की तरह काम करें।”

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।