Girl Burnt to Death

नाबालिग लड़की से दुष्कर्म के बाद उसे जिन्दा जलाया, अब न्याय के लिए भटक रही है मां

136

एक महीनें तक जिन्दगी और मौत से बीच झूलती पीड़िता नें आखिर तोड़ दिया दम…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

लखनऊ: हैवानियत का शिकार हुई अपनी नाबालिग बेटी की मौत के बाद उसे न्याय दिलाने के लिए दर-दर की ठोकरें खाती एक बेबस मां नें संबंधित थानें की पुलिस पर आरोप लगाया है कि पुलिसकर्मी उसकी शिकायत पर अारोपियों पर कार्यवाही करनें के बजाये पीड़िता को ही बदचलन बता कर उसकी मां को थानें से भगा दे रहे हैं।

क्या है पूरा मामला…

मामला लखनऊ के थाना काकोरी अन्तर्गत बेगरिया बरावन कला का है। जहां रहने वाली पेशे से मजदूर रामदेवी पत्नी परमेश्वर का आरोप है कि बीते वर्ष 06 नवंबर 2017 को उसकी नाबालिग बेटी जिसकी उम्र उसके आधार कार्ड पर अंकित जन्मतिथि के अनुसार लगभग 10 वर्ष थी। जब घर में अकेली थी तभी पड़ोस में रहने वाला अनुज पुत्र नन्कू और उसकी एक महिला मित्र सुनैना पुत्री राजू जबरदस्ती उसके घर में घुस आए और उसे अकेली पाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।

Watch this Video Statement

पीड़िता नें जब बचनें की कोशिश किया तो उसके ऊपर घर में रखा मिट्टी का तेल डाल दिया। यह देखकर जब पीड़िता डर के मारे मण्डी की ओर भागने लगी तो अनुज के साथ मौजूद उसकी प्रेमिका सुनैना ने दौड़ाकर उसे आग लगा दी, जिसे राहगीरों के प्रयास से किसी तरह बुझाया गया और बुरी तरह जल चुकी पीड़िता को अस्पताल में इलाज हेतु भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान 01 दिसम्बर 2017 को उसकी पुत्री की मौत हो गई।

घटना की लिखित तहरीर पीडिता द्वारा बताये गये घटनाक्रम के आधार पर मां रामदेवी द्वारा दुर्गागंज, काकोरी थाने मे दी गई। लेकिन आरोप है कि पुलिस नें नामजद किये गये आरोपियों के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं की। मृतका का पोस्टमार्टम करानें के बाद तो पुलिसकर्मियों नें उसकी मां को थानें तक में घुसने नही दिया।

जब हमने रामदेवी से बात किया तो उसने रो-रोकर बताया कि मेरी बेटी के कातिलों को पकड़नें के बजाए उल्टा पुलिसवाले उसकी मर चुकी बेटी को ही बदचलन बता रहे हैं। मॉ नें काकोरी थानें के पुलिसकर्मियों पर सीधे अारोप लगाते हुये कहा कि आरोपियों नें लंबी-चौड़ी रकम थानें पहुँचायी है।

मृतक बच्ची की मां रामदेवी का आरोप है कि पुलिसिया कार्रवाई न होने से आरोपियों के हौसले काफी बुलंद हैं। आरोपी अनुज व उसकी मां शकुंतला तथा आरोपी सुनैना की मां मनीषा पत्नी राजू खुलेआम घूम-घूम कर मुझे और मेरे पति को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं और कहते हैं कि हमनें इतना पैसा खर्च किया है कि पुलिस अब हमारा कुछ नही कर सकती।बच्ची की मॉ रामदेवी स्थानीय पुलिस से लेकर मुख्यमंत्री तक को पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगा चुकी है। इस संदर्भ में चेतना फाउण्डेशन एण्ड चैरिटेबिल ट्रस्ट की अध्यक्ष चेतना पाण्डेय द्वारा अपनी संस्था के माध्यम से पीडित परिवार को न्याय दिलाने के लिए अफसरों  से संपर्क साधा गया है।

चेतना पाण्डेय नें हमें फोन पर बताया कि वो मृतका की मां को लेकर भाजपा नेत्री रीता बहुगुणा जोशी के पास गयी और उन्हे घटना की जानकारी दी। रीता बहुगुणा नें स्थानीय क्षेत्राधिकारी को पत्र लिखकर मामले की विवेचना करके उचित कार्यवाही की बात कही है।

बता दें कि जनमंच न्यूज़ के पास वह वीडियो मौजूद है जिसमें मौत से पहले जली हुयी अवस्था में पीड़िता नें स्वंय बताया है कि उसके साथ किस तरह हैवानियत की सारी सीमा पार करते हुये पहले उसी के घर में उसके साथ दुष्कर्म किया फिर उस पर केरोसिन डालकर बीच सड़क पर आग लगा दिया।

दुर्गागंज, काकोरी थानें के एसओ से जब हमने इस मामले में बात किया तो उन्होने बताया कि नामजद आरोपियों पर तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। गिरफ़्तारी के संबंध में थाना प्रभारी नें सफाई दी कि चूँकि आरोपी भी नाबालिग है इस लिए गिरफ़्तारी से पहले विधिक राय लेने की प्रक्रिया चल रही है, जिसके पूरा होते ही कार्यवाही की जायेगी। यह पूछे जाने पर कि मृतका को बदचलन कहना कहां तक उचित है तो उन्होने ऐसे आरोप का खंडन करते हुये कहा कि पुलिस पर इस तरह के अनर्गल आरोप लगते ही रहते है।

shabab@janmanchnews.com