vishwas sarang

एमपी में हर रोज 13 बलात्कार, यह हमारी उपलब्धी: सहकारिता मंत्री

26
Sarvesh Tyagi

सर्वेश त्यागी

भोपाल। मध्यप्रदेश में हर रोज 13 बलात्कार होते है और यहाँ के मंत्रियों को इसमें उपलब्धी नज़र आती है। मध्यप्रदेश के सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग का कुछ ऐसा ही कहना है। सारंग ने कहा कि, एनसीआरबी के आंकड़े दिखाते हैं कि प्रदेश में सबसे ज्यादा मामला भाजपा सरकार के कार्यकाल में दर्ज किए गए, जबकि कांग्रेस के कार्यकाल में लोगों को थाने से लौटा दिया जाता था। याद दिला दें कि हाल ही में भोपाल गैंगरेप मामले में एफआईआर दर्ज ना करने के कारण 6 अधिकारियों को सस्पेंड किया गया है।

दरअसल राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो ने एक रिपोर्ट जारी की जिसके अनुसार देश भर में सबसे ज्यादा बलात्कार मध्यप्रदेश में हुए जबकि आबादी और क्षेत्रफल की दृष्टि से दूसरे राज्य ज्यादा बड़े है।

विधानसभा में गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने भोपाल गैंगरेप मामले पर चर्चा के दौरान दुष्कर्म के मामलों को सामाजिक चुनौती बताया। उन्होंने कहा कि सभी को मिलकर इनका सामना करना पड़ेगा। वहीं, मीडिया से चर्चा के दौरान सिंह ने एनसीआरबी के आंकड़ों को सही नहीं माना। उन्होंने कहा कि, आंकड़ों से कानून व्यवस्था का आकलन नहीं किया जा सकता है। महिलाओं के खिलाफ हो रही हिंसा को रोकने के लिए सरकार कड़ा कानून ला रही है।

इधर जबलपुर में महिला बाल विकास राज्यमंत्री ललिता यादव ने कहा कि पहले 5 साल की बच्ची मोहल्लेभर की बेटी होती थी, लेकिन मानसिकता ऐसे बदली है कि अब 5 साल की बेटी अपने ही घर में सुरक्षित नहीं है।

भारत के गृहमंत्री ने जारी की थी रिपोर्ट…

बता दें कि गुरुवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की “क्राइम इन इंडिया-2016’ रिपोर्ट जारी की थी। इसके अनुसार वर्ष 2016 में उत्तरप्रदेश में हत्या और महिलाओं के खिलाफ हिंसा एवं अपराध सबसे ज्यादा हुए हैं। यहां हत्या के 4,889 (16.1%) और महिलाओं के खिलाफ हिंसा व अपराध के 49,262 मामले (14.5%) दर्ज किए गए।

वहीं, दुष्कर्म के सबसे ज्यादा 4,882 मामले मध्य प्रदेश में दर्ज हुए, जो कुल घटनाओं का 12.5% है। 2014 और 15 में भी राज्य में दुष्कर्म के सबसे ज्यादा मामले दर्ज हुए थे।