fire

अतिथि शिक्षकों की सरकार को धमकी, सोमवार को एक साथ करेंगे आत्मदाह

23
Sarvesh Tyagi

सर्वेश त्यागी

भोपाल। नियमितीकरण की मांग को लेकर अतिथि शिक्षकों ने भोपाल में डेरा जमा लिया है। सेकेंड स्टाप के स्थित अंबेडकर मैदान में आज दूसरे दिन अतिथियों का भारी जमावड़ा रहा।

भीड़भाड़ को देखते हुए प्रशासन ने यहां खास इंतजाम किए हैं। अच्छा खासा पुलिस बल तैनात किया गया है। इन कर्मचारियों ने कल मुंडन कराकर सरकार का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया था। संघ के अध्यक्ष अध्यक्ष शंभुचरण दुबे ने सोमवार को आत्मदाह का ऐलान किया है।

इनका कहना है कि जब तक मांगें नहीं मानीं जाती आंदोलन चलता रहेगा। गौरतलब है कि सरकार अध्यापकों और पंचायत सचिवों की मांगें मान ली है। इसके बाद से इनका आंदोलन और तेज हो गया है। इसके अलावा संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों का आंदोलन लंबे समय से चल रहा है।

इसके साथ ही ग्राम कोटवार संघ, वाणिज्यिक कर अधिकारी संघ, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका का भी आंदोलन चल रहा है। चुनावी साल में इन सबको उम्मीद है कि इनकी मांगे पूरी हो जाएंगी।

मांग पूरी नहीं होने पर संघ के अध्यक्ष ने सोमवार को आत्महत्या करने की चेतावनी दी है। प्रदेश के शासकीय स्कूलों में करीब 80 हजार अतिथि शिक्षक हैं। धरना स्थल पर आंगनबाड़ी व आशा-ऊर्षा कार्यकर्ता भी अपनी मांगों लेकर अतिथि शिक्षकों के साथ थीं। मांगों के नहीं माने जाने के विरोध स्वरूप संघ के अध्यक्ष शंभुचरण दुबे के साथ साथियों ने दोपहर में मुंडन कराया, इसके बाद सभा का आयोजन किया गया।

इस दौरान वक्ताओं ने सरकार के खिलाफ नियमितीकरण की मांग को लेकर अपनी बात रखी। शाम को संघ के करीब एक दर्जन पदाधिकारियों ने इंजेक्शन से अपना खून निकालकर दीये जलाए। संघ के अध्यक्ष ने चेतावनी दी कि रविवार दोपहर तक सरकार ने मांगों का निराकरण नहीं किया, तो सोमवार को आत्महत्या भी कर सकता हूं।