देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बारे में अब तक कि सबसे बड़ी खबर

janmanchnews.com
Share this news...
Sarvesh Tyagi
सर्वेश त्यागी

ग्वालियर। किसी महापुरुष की जयंती या पुण्यतिथि मनाने के आयोजन तो आए दिन होते रहते हैं,लेकिन किसी महापुरुष की त्रयोदशी मनाई जाए ये अपने आप में अद्वितीय है वो भी श्योपुर जिले में।

ऐसा ही अनूठा आयोजन होता हर वर्ष 12 फरवरी को श्योपुर के मानपुर कस्बे से छह किलोमीटर दूर रामेश्वर धाम त्रिवेणी संगम पर जहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की त्रयोदशी उसी श्रद्धाभाव से मनाई जाती है,जिस श्रद्धा से बापू की जयंती और पुण्यतिथि मनाते हैं

जिले में इस अनूठे आयोजन के पीछे कारण यह है कि रामेश्वर त्रिवेणी संगम पर ही 30 जनवरी 1949 को बापू की मृत्यु के बाद उनकी अस्थियां यहीं विसर्जित की थी और तभी से अनवरत रूप से यहां हर वर्ष गांधीवाद नेताओं व उनके अनुयायियों का एकत्रीकरण होता है और त्रयोदशी मनाई जाती है।

त्रयोदशी के आयोजन के दौरान रामेश्वर त्रिवेणी संगम पर श्योपुर जिले ही नहीं बल्कि राजस्थान के उस पार सवाईमाधोपुर जिले के गांधीवादी नेता भी शामिल होते हैं। इस दौरान यहां सर्वधर्म प्रार्थना सभा का आयोजन होता है और बापू के प्रिय भजनों का गायन होता है, साथ ही बापू की आत्मशांति के लिए पूजा पाठ का आयोजन भी किया जाता है।

गरीबों को कराया जाता है भोज-
बापू की त्रयोदशी के अवसर पर 12 फरवरी को रामेश्वर धाम त्रिवेणी संगम पर होने वाले आयोजन में जहां सर्वधर्म प्रार्थना सभा और भजनों का गायन होता है, वहीं अंत में गरीबों व आदिवासियों को भोजन भी कराया जाता है।

विशेष बात यह है कि जब गांधीवादी नेता सत्य अहिंसा की अवधारणा के साथ यहां एकजुट होते हैं तो धार्मिक और पर्यटन केंद्र के रूप में जिले में स्थापित रामेश्वर त्रिवेणी संगम भी अनायास ही अद्वितीय स्थल प्रतीत होता है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।