डाकघरों में डीजल और पेट्रोल के खर्च के नाम पर करोड़ों का घपला

corruption
Janmanchnews.com
Share this news...
Pankaj Pandey
पंकज पाण्डेय

मुजफ्फरपुर। मुख्य डाकमहाध्यक्ष कार्यालय से जारी पत्र के माध्यम से एक मामला के प्रकाश में आने से डाक अधिकारियों में हड़कंप मच गया है।पत्र के अनुसार डाकघरों में डीजल व पेट्रोल के नामपर करोड़ों का घपला किया जा रहा है। वहीं डाकघरों में अनधिकृत रूप से काम कर रहे लोगों को कर्मचारी पासवर्ड दे रहे। इससे बड़ी राशि का गबन किया जा रहा है।

डाकघरों में अनधिकृत रूप से आउटसोर्सिंग कर लोगों से काम लिया जा रहा। वहीं कुली से भी डाकघर का कार्य कराया जा रहा। इतना ही नहीं इनलोगों को डाकघर के कर्मचारी पासवर्ड तक शेयर कर रहे। इस कारण बचत बैंक में बड़ी-बड़ी राशि गबन किए जाने के मामले संज्ञान में आए हैं। गबन की जांच में अनधिकृत रूप से काम करने वालों की संलिप्तता सामने आ रही। मुख्य डाकमहाध्यक्ष ने आश्चर्य जताया कि बचत बैंक, बचत पत्र डाक जीवन बीमा हब या काउंटर पर अनधिकृत लोगों से काम कैसे लिया जा रहा?

मुख्य डाकमहाध्यक्ष द्वारा जारी पत्र के अनुसार राज्य में बिजली की स्थिति काफी सुधर गई है। बावजुद ईंधन मद में बड़ी राशि खर्च हो रही। इसमें डाकपाल व उप डाकपाल की भूमिका संदेह के घेरे में है। क्योंकि डाकघरों में बिना लॉग रजिस्टर को व्यवहार में लाए डीजल व पेट्रोल पर बड़ी राशि खर्च की जा रही। जिले के 12 डाकघरों में इस मद में खर्च किए गए करीब 31 लाख रुपये के बिल पर संदेह जताया गया है। प्रवर डाक अधीक्षक नरसिंह महतो ने जानकारी दी कि उक्त बिल का भुगतान उनके कार्यालय द्वारा नहीं किया गया है। जांच के बाद ही इसका भुगतान किया जाएगा।

पत्र के अनुसार औराई डाकघर में  2,91,025,
एमआइटी 4,87,500, कांटी 3,48,500, ढोली  4,27,330, पीयर 2,68,440,
करनौल 1,27,500, कटरा 2,01,000,
रामपुर हरि 1,13,735, देवरिया 2,25,000,मीनापुर  4,10,825, मोतीपुर 2,22,900 का डीजल मद में खर्च दिखाते हुए बिल भुगतान हेतु प्रेषित की गई है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।