अब आसमान में उड़ेगा स्वेदशी विमान

Indian plane
Janmanchnews.com
Share this news...
Pankaj Pandey
पंकज पाण्डेय

नई दिल्ली। भारतीय आसमान में जल्द ही यात्री स्वदेश निर्मित विमान से हवाई सफर का लुत्फ उठा सकेंगे। ऐसा सरकारी कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा 19 सीटों वाले डॉर्नियर विमान-228 के सफल परिक्षण के बाद सम्भव हो पा रहा है। डॉर्नियर-228 विमान को नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने कमर्शियल (व्यावसायिक) उड़ान भरने की मंजूरी दे दी है। सशस्त्र बल पहले से ही डॉर्नियर-228 का इस्तेमाल कर रहे हैं। हाल में कानपुर हवाई अड्डे पर इसका सफल परीक्षण किया गया।

विदित हो कि कानपुर स्थित एचएएल का 1960 से ही ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट डिवीजन है। एचएएल ने इस विमान का निर्माण किया है। यह पहला मौका है जब किसी घरेलू कंपनी द्वारा निर्मित विमान को डीजीसीए ने कमर्शियल उड़ान की मंजूरी दी है।

डीजीसीए की अनुमति मिलने के बाद एचएएल अब भारत में एयरलाइंस कंपनियों को भी विमान बेच सकेगी। ऐसे में घरेलू उद्देश्यों के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा। अधिकारियों ने बताया, डॉर्नियर-228 का इस्तेमाल करने वाली एयरलाइंस को कुछ छूट भी दी जा सकती है ताकि स्वदेश निर्मित विमान का उपयोग बढ़े।

एचएएल डॉर्नियर-228 विमान का निर्यात करने की भी तैयारी कर रही है। अफसरों ने बताया है कि शुरुआत में इसका निर्यात नेपाल और श्रीलंका को किया जा सकता है। डॉर्नियर-228 का एयर टैक्सी और टोही विमान के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। तटरक्षक बल भी इस 19 सीटों वाले विमान का प्रयोग कर सकते हैं।

मेक इन इंडिया का ये विमान 700 किलोमीटर तक 428 किमी की अधिकतक रफ्तार से उड़ान भर सकता है। 19 सीटों वाला यह विमान बेहद उन्नत इंजन से लैस है। ये विमान 448 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से उड़ सकता है। एक टैंक फुल होने पर 700 किमी की दूरी तय कर सकता है।

बता दें कि डॉर्नियर- 228 विषम मौसम और रात में उड़ने में भी सक्षम है।इसकी क्षमताओं को देखते हुए कई देशों की सेनाएं इसे इस्तेमाल करती हैं।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।