गेहूं

गेहूं भंडारण के लिए खोजे नहीं मिल रहा गोदाम

36

गतवर्ष की अपेक्षा इस साल मुख्यमंत्री के निर्देश पर गेहूं की तीन गुना खरीद की गई है…

Aslam Ali

असलम अली

 

 

 

 

 

 

मिर्जापुर: जिले में गेहूं की अत्यधिक खरीद की जा चुकी है। चालीस हजार मिट्रिक टन के मुकाबले अब तक 1.10 लाख मिट्रिक टन गेहूं की खरीद हो चुकी है। अब इस अनाज के भंडारण की गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई है। आरएफसी को खोजे भंडार नहीं मिल रहा है। अब महकमा की नजर नगर के बंद चल रहे सिनेमा हाल व कोल्ड स्टोरेज पर है। लेकिन आबादी के बीच सिनेमा हाल होने के कारण वहां लोड अनलोड की समस्या आड़े आ रही है।

आरएफसी का दो गोदाम है जिसमें एक पथरहिया में दूसरा विंध्याचल में है। यह दोनों गोदाम भर गया है। विंध्याचल के गोदाम में पहले से चावल भरा हुआ है। जैसे-जैसे चावल की रैक हट रही है, वैसे-वैसे उसमें गेहूं का भंडारण किया जा रहा है। इन गोदामों को भरने के बाद जंगीरोड स्थित कृषि मंडी समिति के गोदाम का अधिग्रहण किया गया। मंडी समिति के गोदाम में साढ़े चार हजार एमटी गेहूं का भंडारण किया गया है।

औराई चीनी मिल का अधिग्रहण करके उसमें गेहूं का भंडारण किया जा चुका है। भंडारण के लिए जगह न होने से अधिकारियों के सामने भंडारण की गंभीर समस्या हो गई है। जिले के हर एक क्रय केंद्रों पर गेहूं भरा पड़ा है। गेहूं रखने के लिए जगह नहीं है। यहीं कारण है कि गेहूं की खरीद नहीं हो पा रही है। हर एक केंद्र पर खुले आसमान के नीचे अनाज रखा गया है। यदि समय रहते उसका भंडारण नहीं किया गया तो बरसात होने पर अनाज भींगने से खराब हो जाएगा।

गतवर्ष की अपेक्षा इस साल मुख्यमंत्री के निर्देश पर गेहूं की तीन गुना खरीद हो गई है। इससे भंडारण की समस्या उत्पन्न हो गई है। भंडारण के लिए अपेक्षित जगह नहीं मिल रहा है। चार जगह भंडारण पूरा हो गया है लेकिन अभी आधा से अधिक अनाज का भंडारण नहीं हो पाया है। खाली पड़े सिनेमाहाल व कोल्डस्टोरेज को देख रहे हैं जगह मिलने पर अनाज का भंडारण किया जाएगा।