अपनी जनसभा में विरोध स्वर सुनना नही चाहते पीएम मोदी, विरोधियों को दूर रखने के लिए प्रशासन‌ नें कसी कमर

जनसभा
PM Modi will address a gathering in Kachnar Village at RajaTalab....
Share this news...

शिक्षामित्रों, पृथक पूर्वांचल राज्य की मांग करने वालों, विश्वनाथ कॉरीडोर को लेकर विरोध-प्रदर्शन कर रहे लोगों पर सुरक्षा एजेंसियों की कड़ी नजर…

Shabab Khan
शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: प्रधानमंत्री मोदी के काशी आगमन को लेकर तमाम सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह से अलर्ट हैं। बीजेपी से खासे नाराज शिक्षामित्र, अलग पूर्वांचल राज्य की मांग करने वाले, इनके अलावा गंगा पाथवे-विश्वनाथ कॉरीडोर की जद्‌ में आकर कथित परियोजना के विरुद्ध विरोध-प्रदर्शन कर रहे लोगों पर और वाराणसी के वो‌ सभी पार्षद जो भाजपा से नहीं है, इन सभी पर खुफिया एजेंसियों की खास नजर होगी। ऊपर से आदेश है कि इस बार पीएम मोदी की जनसभा में किसी तरह का कोई हंगामा नहीं होना चाहिए।

इसे लेकर जिला पुलिस और लोकल इंटेलिजेंस यूनिट को अतिरिक्त सतर्कता बरतने की ताकीद की गई है। साथ ही, कहा गया है कि राजातालाब में आयोजित जनसभा और रथयात्रा मेले में शामिल होने वाले लोगों की गतिविधियों पर भी पुलिस की पैनी नजर रहे।

शिक्षामित्र
Shikhsha Mitra making blunder in a previous rally of PM Modi. Administration didn’t want any kind of such incident again. Special arrangements have been made to prevent unwanted elements into PM Modi’s Rajatalab rally…

खुफिया इकाइयों को आशंका है कि राजातालाब क्षेत्र के कचनार में आयोजित पीएम मोदी की जनसभा में पहले की तरह भाजपा कार्यकर्ताओं के भेष में प्रवेश कर शिक्षामित्र फिर से न हंगामा कर दें।

इससे पहले सितंबर, 2017 में शहंशाहपुर में आयोजित पीएम मोदी की जनसभा में शिक्षामित्रों के विरोध प्रदर्शन और नारेबाजी के कारण एसपीजी के अधिकारियों ने कड़ी नाराजगी जताई थी और मामले को लेकर हंगामा करने वालों के खिलाफ रोहनिया थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। हंगामा करने वाले सभी शिक्षामित्र गले में भगवा गमछा लपेट कर और कार्यक्रम का पास लेकर जनसभा में शामिल हुए थे। सितंबर, 2015 में भी डीरेका खेल मैदान में आयोजित प्रधानमंत्री की जनसभा में शिक्षामित्रों ने हंगामा किया था और पीएम मोदी को‌ भाषण रोकना पड़ा था।

पूर्व की इन गंभीर त्रुटियों को केंद्रीय खुफिया इकाइयों ने गंभीरता से लिया है और अतिरिक्त सतर्कता बरतने का निर्देश पुलिस के साथ ही लोकल इंटेलिजेंस यूनिट को दिया है। इस बार जो भी कार्यक्रम का आमंत्रण पत्र लेकर जनसभा में जाएंगे उनकी विधिवत चेकिंग और तस्दीक करने के बाद ही प्रवेश दिया जाएगा।

इस बारे में पुलिस अधिकारियों का कहना था कि जनसभा में मौजूद लोगों के बीच सादे कपड़ों में पुलिस और खुफिया इकाइयों के जवान तैनात रहकर सभी की गतिविधियों पर नजर रखेंगे। किसी भी प्रकार की गड़बड़ी का प्रयास करने वाले पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

फिलहाल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बनारस आगमन के मद्देनजर बाबतपुर एयरपोर्ट से कचनार गांव तक का चप्पा-चप्पा एसपीजी की निगरानी में है। एसपीजी के साथ ही एनएसजी कमांडो, एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड के कमांडो, केंद्रीय खुफिया इकाइयों के जवान, सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स, पीएसी, पुलिस, डॉग स्क्वॉड, बम निरोधक दस्ता और एंटी माइंस डिटेक्शन यूनिट के जवान शुक्रवार शाम से ड्यूटी प्वाइंट पर तैनात हो गए थे।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।