CIA को सता रहा डर, अमेरिका पर परमाणु हमला कर सकता है उत्तर कोरिया

Trump and Kim
My Nukes are bigger than yours, says Donald Trump on Kim's threat that his Nuclear Button is ready...
Share this news...

सीआइए ने कहा कि वह उत्तर कोरिया और किम जोंग उन से संभावित खतरों पर चर्चा करते हैं। उनका काम राष्‍ट्रपति ट्रंप तक खुफिया जानकारी पहुंचाना है…

Ajit Pratap Singh
अजित प्रताप सिंह

 

 

 

 

 

वाशिंगटन: भले ही मौजूदा समय में उत्‍तर कोरियाई तानाशाह की हमले की धमकियां कम हो गई हों, मगर अमेरिका के लिए खतरा टला नहीं है। दक्षिण कोरिया के प्रति किम जोंग उन के रुख में आए बदलाव को अमेरिका के लिए राहत समझा जा रहा था। हालांकि देश की खुफिया एजेंसी सीआइए के निदेशक ने चिंता जताई है कि उत्‍तर कोरिया के पास ऐसे परमाणु मिसाइल हैं, जिससे वह कुछ महीनों के भीतर अमेरिका पर हमला कर सकता है।

सीआइए के निदेशक माइक पॉम्पिओ ने एक इंटरव्यू में अपनी इस चिंता को जाहिर करते हुए कहा कि उनकी खुफिया एजेंसी लगातार उत्‍तर कोरिया और उसके नेता किम जोंग उन से संभावित खतरों पर चर्चा करती रहती है। उन्‍होंने कहा कि हमारा काम इस बारे में अमेरिकी राष्‍ट्रपति तक खुफिया जानकारी पहुंचाना है, ताकि उनके पास गैर-कूटनीतिक तरीके से इस खतरे से निपटने के लिए विकल्‍प मौजूद हों।

पॉम्पिओ ने यह भी स्‍वीकार किया कि उत्‍तर कोरिया के खिलाफ बल के इस्‍तेमाल से क्षेत्र में बड़े पैमाने पर जिंदगियों को नुकसान पहुंच सकता है, जहां दो अहम अमेरिकी सहयोगी जापान और दक्षिण कोरिया भी हैं। पॉम्पिओ ने कहा कि अगर किम को हटाने या अमेरिका पर उसके परमाणु हमले की क्षमता को सीमित करने की कोशिश की गई तो इसके गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

गौरतलब है कि ट्रंप के एक साल के राष्‍ट्रपति कार्यकाल में उत्‍तर कोरिया के साथ अमेरिका का तनाव इस हद तक बढ़ गया है कि बात परमाणु हमले तक पहुंच गई है। पिछले साल उत्‍तर कोरिया ने भी लगातार कई मिसाइल परीक्षण कर अमेरिका को उकसाया है।

किम जोंग उन कई बार खुलकर अमेरिका पर परमाणु हमले की धमकी दे चुके हैं। ट्रंप के साथ भी कई मौकों पर उनकी जुबानी जंग देखने को मिल चुकी है। इस दौरान किम ने ट्रंप के लिए कई अपशब्‍दों का इस्‍तेमाल भी किया। पागल और घमंडी तक करार दिया। हालांकि ट्रंप भी समय-समय पर उत्‍तर कोरिया को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दे चुके हैं और किम पर तंज कसने का कोई मौका भी हाथ से जाने नहीं दिया है।इस साल की शुरुआत में भी किम ने अमेरिका को हमले की चेतावनी देते हुए कहा था कि उनकी मेज पर हमेशा परमाणु बटन रहता है। इस पर ट्रंप ने भी किम की चुटकी लेते हुए कहा था कि उनके पास उससे भी ज्‍यादा बड़ा बटन है और यह काम भी करता है। हालांकि ट्रंप की इस चुटकी में भी उत्‍तर कोरिया के लिए गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी छिपी थी।

पॉम्पियो ने कहा कि राष्‍ट्रपति ट्रंप जिस भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं, उसे उत्‍तर कोरिया भी सुन रहा है। उन्‍होंने कहा, जब आप एक राष्ट्रपति को इस तरह की भाषा का इस्तेमाल करते देखते हैं तो इसको सुनने वाले कई लोग होते हैं और मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि किम जोंग उन यह संदेश समझते हैं कि अमेरिका गंभीर है।

उत्‍तर कोरिया ने पिछले साल करीब 20 मिसाइल परीक्षण किए थे, जिसमें कम से कम तीन इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण शामिल थे। उत्‍तर कोरिया ने अमेरिकी सरजमीं तक परमाणु हमले की क्षमता विकसित करने का दावा कर दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका को हिला दिया है और तब से दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।